नवादा: दहेज के लिए ससुरालवालों ने बहू के हाथ-पैर रस्सी से बांध कर जिंदा जलाया, चीख सुनाई नहीं दे इसलिए मुंह में रुमाल ठूंसा

नवादा से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. दहेज के लिए ससुराल पक्ष के लोगों ने बहू को जिंदा जला दिया है. इससे पहले महिला का हाथ और पैर रस्सी से बांध दिया गया था. चीख सुनाई नहीं दे, इसलिए मुंह में रुमाल ठूंस दिया.

मामला शाहपुर थाना क्षेत्र के महारथ काशीचक गांव का है. शुक्रवार को ही कोमल कुमारी को जिंदा जला दिया गया. वारदात को अंजाम देने के बाद ससुराल पक्ष के लोगों ने विवाहिता को पावापुरी अस्पताल में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान शनिवार को उसकी मौत हो गई.

कोमल के भाई राहुल कुमार ने बताया, शुक्रवार को मेरे मोबाइल पर बहनोई कृष्णा कुमार का फोन आया. उसने बताया कि कुकर फटने से तुम्हारी बहन जल गई है. उसे लेकर अस्पताल जा रहे हैं. इस सूचना के बाद परिजनों के साथ अस्पताल पहुंचा. तब ससुराल पक्ष के लोग उसके एक साल के भांजे को लेकर भाग गए.महिला का मायका लखीसराय जिले के कजरा थाना क्षेत्र के अरमा बंसीपुर में है.

राहुल ने बताया, ‘1 मई 2019 को धूमधाम से पिता शंकर सिंह ने कोमल की शादी कृष्णा कुमार से की थी. दहेज भी दिया था. इसके बावजूद हर बार मायके से कुछ ना कुछ उपहार लाने का दबाव बनाया जाता था. मेरी शादी पिछले साल हुई तो बहनोई ने स्कॉर्पियो की डिमांड कर दी थी. मना करने पर बहन के साथ मारपीट भी की गई थी. बहनोई के पिता समस्तीपुर में दारोगा के पद पर कार्यरत हैं. उसी का धौंस दिखा कर ससुराल पक्ष के लोग हमेशा दहेज की मांग करते थे.’

मायके पक्ष के लोगों ने बताया, ‘पड़ोसियों से जानकारी मिली है. पड़ोसियों ने बताया कि कोलम का हाथ और पैर रस्सियों से बंधा हुआ था. मुंह में रुमाल ठूंस दिया गया, जिससे आग लगने के बाद वह चीख नहीं सके. मदद के लिए पुकार नहीं सके। इसके बाद पूरी कहानी को कुकर फटने से जोड़ दिया गया.’

कोमल के भाई राहुल ने घर में मौजूद दोनों ननद, सास एवं पति पर दहेज हत्या के लिए जलाकर मार डालने का आरोप लगाया है. ससुर पर भी मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है. फिलहाल घर छोड़कर ससुराल पक्ष के लोग फरार हैं. घर में घटना के बाद कमरे को धो दिया गया था, फिर भी जहां-तहां जलने के बाद गिरे अवशेष कमरों में पड़े थे. पावापुरी में हुई मौत के बाद शाहपुर ओपी पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम कराने के लिए बिहार शरीफ सदर अस्पताल भेज दिया है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More