बिहार में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़: 14 वर्षीय नाबालिक ने की थी शिकायत, सरगना समेत पांच लोग गिरफ्तार

बिहार पुलिस ने रोहतास में एक अंतरराज्यीय सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए इस सिलसिले में सरगना समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी. पुलिस ने 6 नाबालिग लड़कियों को भी छुड़ाया, जिन्हें मुंबई के डांस बार में सप्लाई किया जाना था.

अधिकारी ने बताया कि गिरोह का रोहतास और मुंबई के अलावा मुजफ्फरपुर, पटना, रक्सौल में नेटवर्क बना हुआ था. पुलिस ने कहा कि वे विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं को भी नाबालिग लड़कियों की आपूर्ति करते थे.

घटना का पता 19 जुलाई को तब चला जब 14 साल की एक बच्ची गैंग की सरगना रेखा देवी उर्फ बुआ की कैद से फरार हो गई और पटना में बाल कल्याण विभाग के कार्यालय पहुंची.

पीड़िता ने अधिकारियों के सामने अपनी आपबीती सुनाई जिन्होंने तुरंत पटना पुलिस को इस मामले में प्राथमिकी (FIR) दर्ज करने का निर्देश दिया. चूंकि मामला देह व्यापार और मानव तस्करी से जुड़ा है, इसलिए बिहार पुलिस (कमजोर वर्ग) के एडीजी अनिल कुमार ने तुरंत एक बचाव दल का गठन किया, जिसने सोमवार तड़के छापेमारी की.

बिहार पुलिस की कमजोर वर्ग शाखा की एसपी बीना कुमारी ने कहा, ‘छापे के दौरान, हमें पता चला कि आरोपी ने शिकायतकर्ता की 12 वर्षीय नाबालिग बहन की भी हत्या कर दी है.’

एसपी ने कहा, ‘हमने रेखा देवी उर्फ बुआ, गोपाल नट, शंकर नट, विकाश और सोनू को गिरफ्तार किया है. रेखा बिक्रमगंज में उस घर में कड़ी सुरक्षा करती थी, जहां नाबालिग लड़कियों को बंदी बनाकर रखा जाता था.’

अधिकारी ने कहा, ‘रेखा अच्छी तनख्वाह के साथ ऑर्केस्ट्रा में नौकरी देने के आकर्षक ऑफर देती थी. एक बार एक लड़की जाल में फंस गई, तो उसने उसे घर में बंदी बना लिया और उसे मुंबई ले गई. आरोपी के पास मुंबई में एक घर भी है और वह लड़कियों की सप्लाई करता था. लड़कियों को डांस बार में ले जाया जाता था और आरोपी देह व्यापार में शामिल थी.’

उन्होंने आगे कहा, ‘हमने आईपीसी की संबंधित धाराओं- हत्या, मानव तस्करी, अपहरण और पॉक्सो अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की है. पुलिस टीम ने घर से गर्भावस्था और गर्भपात की गोलियों के अलावा 1.71 लाख रुपए नकद भी जब्त किए हैं. पीड़ितों को रोहतास जिले में एक आश्रय गृह में भेज दिया गया था.’

इस घटना के बाबत जानकारी मिली है कि पकड़ी गई महिला दलाल रेखा देवी बिक्रमगंज स्थित अपने घर पर लगभग 10 बाउंसर रखती थी. रेस्क्यू की गई किशोरी ने बताया कि रेखा देवी देह व्यापार से मना करने पर बुरी तरह मारपीट करती थी. छुड़ाई गई सरगना को लड़कियां बुआ के नाम से बुलाती थी. उसके संबंध कई सफेदपोश से भी हैं. बताया जा रहा है कि कई सफेदपोश लोगों के पास भी लड़कियों की सप्लाई की जाती थी.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More