नहीं रहे ट्रेजेडी क‍िंग दिलीप कुमार: बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता का 98 साल की उम्र में हुआ निधन

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार (Dilip Kumar dies) का बुधवार (7 जुलाई) सुबह निधन हो गया. स्वास्थ्य समस्याओं के चलते वह पिछले आठ दिनों से आईसीयू में भर्ती थे. 98 साल की उम्र में उन्होंने दुनिया को हमेशा-हमेशा के लिए अलविदा कह दिया. आज सुबह 7.30 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली. दिलीप कुमार को सांस लेने में दिक्कत के चलते 29 जून को मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में भर्ती कराया गया था. स्वास्थ्य समस्याओं के कारण वह अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती थे. उनके निधन के बाद न सिर्फ बॉलीवुड बल्कि उनके फैंस भी गमगीन हैं.

दिलीप कुमार के डॉक्टर जलील पारकर ने उनके निधन की खबर को कन्फर्म किया है. दिलीप कुमार को आज मुंबई के सांताक्रूज कब्रिस्तान में सुपुर्दे खाक किया जाएगा. दिलीप कुमार के अस्पताल में भर्ती होने के बाद उनकी पत्नी सायरा बानो (Saira Banu) लगातार फैंस को उनका हेल्थ अपडेट शेयर करती रही थीं. बीते दिन ही उन्होंने कहा था कि अब दिलीप कुमार को एक बार फिर दुआओं की जरूरत है.

दिलीप कुमार के पारिवारिक मित्र फैजल फारूकी ने ट्विटर पर उनके निधन की जानकारी दी. उन्होंने लिखा, ‘बहुत भारी दिल से यह कहना पड़ रहा है कि अब दिलीप साब हमारे बीच नहीं रहे. उन्होंने आगे लिखा, ‘हम ईश्वर की देन हैं और उसी की ओर वापस लौट जाते हैं.’

बता दें कि दिलीप कुमार को मुंबई के खार हिंदुजा अस्पताल में भर्ती कराया गया था. दिलीप कुमार के ट्विटर अकाउंट से उनके निधन की पुष्टि भी की गई.

दिलीप कुमार के निधन के साथ ही हिन्दी सिनेमा के एक युग का अंत हो गया है. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, कई राज्यों के मुख्यमंत्री, बॉलीवुड के दिग्गजों ने दिलीप कुमार के निधन पर शोक व्यक्त किया और इस दिग्गज को अंतिम सलाम किया.

दिलीप कुमार को पिछले एक महीने में दो बार अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. पांच जुलाई को ही दिलीप कुमार के ट्विटर हैंडल से उनकी हेल्थ पर अपडेट दिया गया था. दिलीप कुमार की पत्नी सायरा बानो द्वारा बयान में कहा गया था कि दिलीप कुमार की तबीयत में सुधार हो रहा है. वह अभी भी अस्पताल में ही हैं, आप उन्हें अपनी दुआओं में रखें. लेकिन इस हेल्थ अपडेट के दो दिन बाद ही दिलीप कुमार इस दुनिया को अलविदा कहकर चले गए.

11 दिसंबर, 1922 को ब्रिटिश इंडिया के पेशावर (अब पाकिस्तान में)  में जन्मे में दिलीप कुमार का असली नाम मोहम्मद युसुफ खान था. युसुफ खान ने अपनी पढ़ाई नासिक में की थी, राज कपूर उनके बचपन में ही दोस्त बन गए थे. मानो वहीं से दिलीप कुमार का सफर बॉलीवुड में शुरू हो गया था. करीब 22 साल की उम्र में ही दिलीप कुमार को पहली फिल्म मिल गई थी. 1944 में उन्होंने फिल्म ‘ज्वार भाटा’ में काम किया था, लेकिन उनकी इस फिल्म की अधिक चर्चा नहीं हो पाई थी. 

दिलीप कुमार ने साल 1966 में सायरा बानो से शादी की थी, जो खुद भी एक अभिनेत्री थीं. जब दोनों की शादी हुई तब सायरा बानो, दिलीप कुमार से 22 साल छोटी थीं. दिलीप कुमार ने आसमा साहिबा से भी शादी की थी, हालांकि ये शादी सिर्फ 1983 तक चली थी. लेकिन सायरा बानो के साथ दिलीप कुमार का साथ अंतिम सांस तक बना रहा. सायरा बानो लगातार अस्पताल से दिलीप कुमार के चाहने वालों को उनकी हेल्थ का अपडेट देती रहती थीं.

ज्वार भाटा से शुरुआत करने वाले दिलीप कुमार की यादगार फिल्मों में शहीद, मेला, नदिया के पार, बाबुल, फुटपाथ, देवदास, नया दौर, मुगल-ए-आजम, गंगा-जमुना, राम और श्याम, करमा रहीं. दिलीप कुमार की आखिरी फिल्म किला थी, जो 1998 में आई थी.

दिलीप कुमार को भारत सरकार द्वारा कई अवॉर्ड से नवाज़ा गया था. दिलीप कुमार को पद्म विभूषण, दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड, पद्म भूषण से नवाज़ा गया था. दिलीप कुमार 2000 से 2006 से राज्यसभा सांसद भी रहे. पाकिस्तान ने भी दिलीप कुमार को अपने सर्वोच्च नागरिक अवॉर्ड से नवाज़ा था

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More