नेपाल से भटककर अररिया पहुंचे जंगली हाथी ने मचाया उत्पात, 10 वर्षीय बच्चे को कुचलकर मार डाला

अररियाः भारत-नेपाल सीमा से सटे जिले के नरपतगंज प्रखंड क्षेत्र के मानिकपुर पंचयात में गुरुवार को एक जंगली हाथी (Wild Elephant) नेपाल से भटक कर घुस आया. जंगली हाथी के आने के कारण नेपाल बॉर्डर के घूरना, मानिकपुर और सोनापुर गांव कोहराम मचा हुआ है. इस जंगली हाथी के कुचलने के कारण एक 10 वर्षीय बच्चे की जान चली गई है.

इलाके में हाथी के घुस आने की खबर के बारे में बताते हुए गांव के लोग कहते हैं कि जंगल से भटक कर आए हाथी ने कई लोगों पर हमला किया है. हाथी ने लोगों के खेत और घरों को भी क्षति पहुंचाई है. वहीं अमरोरी गांव में एक 10 साल के लड़के की मौत हाथी द्वारा कुचले जाने से हुई है. जबकि कई अन्य लोगों के घायल होने की खबर है. हाथी के आतंक से गांव के लोग भयभीत हैं.

जानकारी के अनुसार भारत सीमा से लगे खेत-खलिहानों में हाथी दिखने की सूचना जैसे ही गांव वालों को लगी, खबर जंगल के आग की तरह फैल गई. लोगो की भीड़ भी हाथी को देखने के लिए उमड़ पड़ी. ऐसे में मौके पर पहुंचे फुलकाहा थाना अध्यक्ष हरेश तिवारी एवं एसएसबी कैंप प्रभारी एसआई दुर्गेश ने लोगों के भीड़ को हटाया और हाथी को भारतीय इलाके से निकालने का असफल प्रयास भी किया.

इसके बाद उन्होंने फॉरेस्ट विभाग बथनाहा और अररिया को हाथी की मौजूदगी की सूचना दी. सूचना पर जिले के फॉरेस्ट पदाधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर जायजा लिया. साथ ही लोगों को भीड़ लगाने से मना किया.

फॉरेस्ट विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अंधेरा होने के बाद आग का लुक्का और बंदूक की आवाज से हाथी को निकालने की कोशिश जारी है. समाचार लिखे जाने तक एसएसबी, पुलिस और फॉरेस्ट विभाग की टीम हाथी को काबू में करने व उसे गांव से बाहर ले जाने में लगे हुए थे.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More