नवादा: दो गुटों के बीच हिंसक झड़प, मौके पर पहुंची पुलिस पर उपद्रवियों ने किया जानलेवा हमला, चार पुलिसकर्मी समेत सात लोग घायल

बिहार के नवादा जिले के काशीचक थाना क्षेत्र के बौरी गांव में दो गुटों के बीच हिंसक झड़प की सूचना पर पहुंची पुलिस पर भीड़ ने ईंट-पत्थरों व लाठी-डंडे से हमला कर दिया. हमले में चार पुलिसकर्मी समेत सात लोग घायल हो गये. इनमें काशीचक पुलिस थाने के एक जमादार (एएसआई) समेत चार पुलिसकर्मी शामिल हैं. जबकि पुलिस का एक वाहन बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया.

घटना गुरुवार की शाम सात से आठ बजे के करीब की बतायी जा रही है. मौके पर पहुंचे पकरीबरावां एसडीपीओ मुकेश कुमार साहा के नेतृत्व में वारिसलीगंज सर्किल इंस्पेक्टर जीतेन्द्र कुमार, वारिसलीगंज एसएचओ पवन कुमार व काशीचक एसएचओ राजकुमार, शाहपुर पुलिस व पर्याप्त पुलिस बल ने उग्र भीड़ को खदेड़ दिया व मौके से 10 उपद्रवियों को गिरफ्तार कर लिया. 

घटनास्थल से कारतूस के चार खोखे बरामद किये गये हैं. पुलिस ने एक बाइक भी जब्त की है. घायल पुलिस कर्मियों को काशीचक पीएचसी में प्राथमिक इलाज के बाद शुक्रवार को सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया. घायलों में एएसआई सुरेन्द्र पासवान और बिहार पुलिस का जवान राजू कुमार, संदीप ठाकुर व बिरेन्द्र कुमार शामिल हैं. तीन अन्य घायलों में मोनू कुमार, मनु कुमार व चंद्रदीप प्रसाद शामिल हैं. तीनों बौरी गांव के रहने वाले बताये जाते हैं.

काशीचक पुलिस को बौरी गांव में दो गुटों के बीच पथराव, मारपीट व फायरिंग की घटना की सूचना रात करीब 08:20 बजे मिली. पुलिस के मुताबिक वे लोग रात 08:30 बजे गांव में पहुंच गये. दोनों गुटों के लोगों को पुलिस द्वारा समझाने की कोशिश की गयी. परंतु इसी बीच भीड़ में से कुछ लोग उग्र हो उठे और पुलिस पर हमला कर दिया. अचानक हुए हमले से पुलिस को पीछे हटना पड़ा, परंतु इस बीच पथराव में चार पुलिसकर्मी घायल हो गये व पुलिस जीप का शीशा चकनाचूर हो गया. सूचना पर एसडीपीओ व अन्य पुलिस पदाधिकारी रात करीब 09:30 बजे गांव पहुंच गये और उग्र भीड़ को खदेड़ दिया. दस लोगों को गिरफ्तार किया गया. इनमें मोनू कुमार,मनु कुमार व चंद्रदीप प्रसाद के अलावा बासो मियां, मो. गुलजार आलम, मो. शोहराब, मो. शहाबुद्दीन, मो. नवाब, मो. महताब व मो. अरबाज शामिल हैं.

जानकारी के मुताबिक बौरी गांव में देवी मंदिर के समीप 15 वीं वित्त आयोग योजना से एक कुएं की मरम्मती का कार्य किया जा रहा था. उसी जगह पर मोनू की साइकिल पंक्चर बनाने की दुकान है. गुरुवार की शाम मोनू ने मरम्मत काम करा रहे ठेकेदार से योजना की राशि में बारे में पूछा और काम बढ़िया से करने को बोला. इसी बात को लेकर ठेकेदार मो. आसिफ से उसका विवाद हुआ. आसिफ भी बौरी गांव का ही रहने वाला है. लोगों ने दोनों को समझा-बुझाकर मामला शांत करा दिया. देर शाम आसिफ ने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर मोनू को बुरी तरह से पीटा. मौके पर अन्य लोग जुट गये व दोनों ओर से मारपीट व फायरिंग शुरू हो गयी.

काशीचक पुलिस की ओर से 91 लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है. इनमें गिरफ्तार किये गये 10 लोगों समेत दोनों गुटों के 31 लोग नामजद हैं और 50-60 अज्ञात आरोपित किये गये हैं. इनके विरुद्ध सरकारी कार्य में बाधा डालने, पुलिस पर जानलेवा हमला करने व कोविड महामारी नियमों का उल्लंधन करने के आरेाप हैं. काशीचक एसएचओ राजकुमार ने बताया कि अन्य उपद्रवियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है. 

इस मामले में मोनू की ओर से भी प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है. प्राथमिकी में मोनू ने मो. आसिफ समेत 17 लोगों को नामजद व अन्य अज्ञात आरोपितों पर मारपीट करने व बंदूक- पिस्टल से फायरिंग करने का आरोप लगाया है. मारपीट में मोनू, मनु व चंद्रदीप घायल हुए हैं. इन्हें इलाज के लिए पीएचसी भेजा गया.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More