CBSE की 12वीं कक्षा की परीक्षा रद्द, प्रधानमंत्री ने कहा- छात्रों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के चलते CBSE की कक्षा 12वीं की परीक्षा रद्दकर दी गई हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में परीक्षा को लेकर हुई बैठक में यह फैसला किया गया. महामारी के प्रकोप के बीच सीबीएसई परीक्षा (CBSE Exams) के आयोजन को लेकर हुई इस उच्च स्तरीय बैठक में केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के अलावा बैठक में शिक्षा मंत्रालय के स्‍कूली शिक्षा व उच्‍च शिक्षा सचिव शामिल रहे.

बैठक में सीबीएसई के चेयरमैन ने भी भाग लिया. इस बैठक में प्रधानमंत्री को परीक्षा के आयोजित करने के सभी विकल्पों की जानकारी दी गई. हालांकि, बैठक के बाद इस नतीजे पर पहुंचा गया कि कोरोना काल में सीबीएसई की 12वीं की परीक्षा आयोजित करना सही नहीं होगा. इसके बाद इन परीक्षाओं को रद्द करने का फैसला किया गया. बाद में जब भी परीक्षा आयोजित की जाएगी तो उसके बारे में बच्चों के माता-पिता को जानकारी दी जाएगी.

12 वीं कक्षा की सीबीएसई परीक्षा रद करने का फैसले पर पीएम मोदी ने कहा कि छात्रों का स्वास्थ्य और सुरक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है. यह हमारी प्राथमिकता है. उस पहलू पर कोई समझौता नहीं होगा. छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों के बीच चिंता खत्म होनी चाहिए. छात्रों को ऐसी तनावपूर्ण स्थिति में परीक्षा देने के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘भारत सरकार ने 12वीं कक्षा की सीबीएसई बोर्ड परीक्षा रद्द करने का फैसला किया है. व्यापक विचार-विमर्श के बाद, हमने यह निर्णय लिया है जो छात्रों के लिए भी अनुकूल है. ये फैसला हमारे युवाओं के स्वास्थ्य के साथ-साथ भविष्य की रक्षा करेगा.’

सरकार ने बयान जारी कर कहा कि पिछले साल की तरह यदि कुछ छात्र परीक्षा देने की इच्छा रखते हैं, तो स्थिति अनुकूल होने पर सीबीएसई द्वारा उन्हें ऐसा विकल्प प्रदान किया जाएगा. कोविड के कारण अनिश्चित परिस्थितियों और हितधारकों से प्राप्त प्रतिक्रिया को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है कि इस वर्ष कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा आयोजित नहीं की जाएगी. सीबीएसई कक्षा 12 के छात्रों के रिजल्ट को समयबद्ध तरीके से अच्छी तरह से परिभाषित उद्देश्य मानदंडों के अनुसार संकलित करने के लिए कदम उठाएगा.

बता दे कि इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने परीक्षा रद्द करने की मांग की थी. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ’12वीं की परीक्षा को लेकर बच्चे और पेरंट्स काफी चिंतित हैं. वे चाहते हैं कि बिना वैक्सिनेशन, 12वीं की परीक्षा नहीं होनी चाहिए. मेरी केंद्र सरकार से अपील है कि 12वीं की परीक्षा रद्द की जाए. पिछले परफॉर्मेंस के आधार पर उनका आंकलन किया जाए.’

बता दें कि सीबीएसई 12वीं की परीक्षा पर लिए गए फैसले की जानकारी आज शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक पीएम मोदी को देने वाले थे. लेकिन इससे पहले ही तबीयत बिगड़ने के कारण उन्हें एम्स में भर्ती होना पड़ा. उन्हें कोरोना वायरस के चलते होने वाली दिक्कतों की वजह से भर्ती करवाया गया है. 

शिक्षा मंत्री निशंक ने 21 अप्रैल को ट्वीट कर जानकारी दी थी कि वे कोरोना से संक्रमित हो गए हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि मेरे संपर्क में आए लोग टेस्ट करवाएं. उन्होंने यह भी कहा था कि मंत्रालय का कामकाज सामान्य रूप से चलता रहेगा.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More