इंसानियत हुई शर्मसार: कर्ज चुकाने के लिए बाप और बेटे ने किया बेटी का सौदा

दरभंगा के सिंहवाड़ा में एक ऐसी घटना सामने आयी है जहां एक पिता ने पुत्र के साथ मिलकर अपनी बेटी का ही सौदा कर दिया. आरोपित उसकी आंखों के आगे बेटी की इज्जत को तार-तार करता रहा और वे देखते रहे. अब इस घटना से पर्दा उठा है तो हर कोई इस बाप-बेटे के कृत्य की निंदा कर रहा है. दोनों ने यह काम कर्ज उतारने के लिए किया था.

दरअसल, दरभंगा जिले के सिंहवाड़ा में एक महिला ने अपने पिता और भाई पर ही दुराचार करवाने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया है. इसमें उसने आराेपित पर अपने आठ माह के मासूम बच्चे के गर्दन पर चाकू रखकर दुराचार करने की बात भी कही है.

पीड़िता का कहना है कि जब आरोपित ने उसके साथ गंदा काम किया तो उसने इसकी शिकायत अपने पिता और भाई से करने की बात कही. इस पर आरोपित ने कहा कि यह सब उसने स्वजनों की इजाजत से ही किया है. अगले दिन जब पीड़िता ने घटना के बारे स्वजनों को बताया तो सच में उनलोगों की प्रतिक्रिया बहुत ही ठंडी रही. बजाए आरोपित पर किसी तरह की कार्रवाई करने के, वे समझाने लगे. इसके बाद पीड़ित को पूरी बात समझ में आ गई. इतना ही नहीं वे कहने लगे- तुम अपने पति को अब छोड़ दो. तुम्हारे लिए अच्छा लड़का खोज दिए हैं, उसके साथ रहो. जब उसने इसका विरोध किया तो उसे घर में बंद कर दिया गया.

इसके बाद तो आरोपित की जैसे चांदी ही हो गई. वह पिता और भाई के सह पर लगातार गंदा काम करता रहा. यदि कभी वह विरोध करती तो आठ माह के मासूम बच्चे की हत्या की धमकी दी जाती. एक बार तो आरोपित ने बच्चे को मारने की धमकी देकर पीड़िता को रामविलास भगत के घर ले गया. वहां एक माह तक बंधक बनाकर रखा और मनमानी करता रहा.

मौका मिलने पर पीड़िता भागकर एपीएम थानाक्षेत्र के एक गांव स्थित अपने ससुराल पहुंच गई. दुर्भाग्य से उस समय वहां कोई नहीं था. आरोपित चंद्रभूषण भगत वहां भी पहुंच गया. ससुराल में भी उसके साथ गंदा काम किया. दूसरे दिन पीड़िता का भाई भी आ धमका. वह पुन: मायके में लाकर उसे बंद कर दिया. इस बीच महिला को ससुराल के लोगों के घर आने की सूचना मिली. फिर मौका देखकर वह भागकर ससुराल पहुंच गई. कुछ दिनों के बाद पति, सास और ससुर के साथ ओडिशा चली गई. वहां भी पिता और भाई बार-बार फोनकर वापस आने के लिए दबाव देने लगे.

इसके बाद पीड़िता ने ससुराल वालों को पूरी घटना की जानकारी दी. ये सुनने के बाद ससुराल वाले पीड़िता को लेकर सीधे महिला थाना पहुंचे. जहां पीड़िता ने अपने पिता उदयचंद्र भगत, भाई गुड्डू भगत, आरोपित व एपीएम थानाक्षेत्र के श्रीपुर बहादुरपुर निवासी चंद्रभूषण भगत सहित आठ लोगों को आरोपित कर प्राथमिकी दर्ज कराई है. कहा, पिता-भाई काफी कर्ज में थे. बचने के लिए ससुर से डेढ़ लाख रुपये मदद करने को कहा. इन्कार करने पर पिता और भाई ने मौका देख बिदागरी कराकर मायके लाया और सौदा कर दिया. थानाध्यक्ष नुसरत जहां ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More