CM नीतीश की हाईलेवल मीटिंग खत्म, अधिकारियों को ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने दिए निर्देश

बिहार के CM नीतीश कुमार ने आज एक हाईलेवल मीटिंग की है. इस मीटिंग में दोनों डिप्टी CM, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय, DGP एस के सिंघल, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत के अलावा अन्य अधिकारी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मौजूद थे. इस दौरान CM नीतीश को बिहार में कोरोना के मामलों, जांच और वैक्सीनेशन के ताजा अपडेट्स की जानकारी दी गई.

CM ने इसके बाद अधिकारियों से कहा कि अभी कोरोना के मामले और बढ़ने का अंदेशा है. इसलिए इससे बचाव के हरसंभव कदम उठाए जाएं. उन्होंने ऑक्सीजन की आपूर्ति हर हाल में सभी अस्पतालों में सुनिश्चित करने को कहा. साथ ही कोरोना से लड़ाई में राज्य के अन्य डॉक्टरों का सहयोग लेने का भी निर्देश दिया है.

CM नीतीश ने अपनी मीटिंग में यह भी निर्देश दिया है कि राज्य में आयुष, यूनानी डॉक्टरों के साथ ही डेंटल और रिटायर्ड डॉक्टरों का भी सहयोग इस महामारी से निपटने में लिए जाए. साथ में चिकित्सा कार्य से जुड़े अन्य कर्मियों की भी ट्रेनिंग कराकर उनकी सेवा ली जाए. बड़ी संख्या में डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों के कोरोना संक्रमण की जद में आने पर IMA पहले ही बिहार के लिए रेड अलर्ट जारी कर चुका है.

सोमवार को दो बार हुई हाईलेवल मीटिंग के बाद शाम 5 बजे के करीब CM नीतीश राजधानी पटना का जायजा लेने निकले. उनका काफिला मुख्यमंत्री सचिवालय से निकलकर कंकड़बाग मुख्य सड़क होते हुए पटना सिटी तक पहुंचा. बताया जा रहा है कि CM इस तरह शहर में आम जनजीवन को देखने निकले हैं. इसके बाद वह बिहार में कोरोना के रोकथाम के लिए अन्य उपायों पर निर्णय लेंगे.

CM की मीटिंग में यह भी निर्देश दिए गए;

  • जांच की संख्या बढ़ाकर समय पर रिपोर्ट उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाए. इसी से संक्रमण के रोकथाम में मदद मिलेगी. वैक्सीनेशन में भी तेजी लाएं.
  • ऐसे लोग जिनकी RTPCR रिपोर्ट नेगेटिव आ रही है, लेकिन उनमें लक्षण हैं, उनका भी अस्पतालों में इलाज कराना सुनिश्चित कराया जाए.
  • केंद्र सरकार द्वारा आपूर्ति के बाद अभी अगर ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है, तो राज्य सरकार अपने खर्च पर उसकी आपूर्ति करेगी.
  • शहर-गांव हर जगह मास्क का वितरण कराएं और लोगों से इसका इस्तेमाल करते रहने को कहें.
  • मीडिया के साथ ही माइकिंग के जरिए गांवों-कस्बों में लोगों को मास्क-सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते रहने को कहा जाए.
  • संक्रमण से बचाव को लेकर जो भी गाइडलाइन बनाई गई है, आम जनता से उसका हर हाल में पालन सुनिश्चित कराएं.
You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More