BREAKING NEWS: नीतीश कैबिनेट में 35 एजेंडों पर लगी मुहर

पटना से बड़ी खबर सामने आ रही है जहां मुख्य सचिवालय में चल रही नीतीश कैबिनेट की अहम बैठक खत्म हो गई है. बैठक में कुल 35 एजेंडों पर मुहर लगी है.कैबिनेट की इस बैठक में डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद समेत कैबिनेट के सभी मंत्री मौजूद थे.

 मंत्रिपरिषद की इस अहम बैठक में नौकरी का पिटारा खुला है. राज्य के विभिन्न विभागों में हजारों पदों पर बहाली की स्वीकृति मिली है. गृह विभाग और स्वास्थ्य विभाग के आलावा पटना मेट्रो में भी बहाली की स्वीकृति मिली है. विभिन्न विभागों में लगभग 5800 से अधिक पदों को सृजित करने की स्वीकृति मिली है. 

गृह विभाग में खाली पड़े 218 पदों को भरने की स्वीकृति मिली है. आपराधिक घटनाओं की जांच को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए राजपत्रित और अराजपत्रित कोटि के कुल 218 पदों की स्वीकृति मिली है. इसके अलावा पटना मेट्रो में 188 पदों को सृजित करने की स्वीकृति मिली है. 

इसके अलावा पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग में मत्स्य प्रसार पदाधिकारी के 264 पदों की स्वीकृति मिली है. इसके आलावा नगर विकास एवं आवास विभाग में 4503 पदों को सृजित करने की स्वीकृति मिली है. विधि विभाग में 39 पदों को भरा जायेगा. 

नीतीश कैबिनेट ने गोपालगंज के मेसर्स मगध सूगर एंड एनर्जी गोपालगंज लिमिटेड कंपनी को 75 के एलपीडी से 100 के एलपीडी क्षमता का विस्तार कर इथनॉल इकाई की स्थापना की स्वीकृति दे दी है.

कैबिनेट बैठक की जानकारी देते हुए कैबिनेट सचिव संजय कुमार ने बतलाया कि कैबिनेट ने अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण विभाग द्वारा अनुसूचित जाति जनजाति आवासीय विद्यालय निर्माण के लिये 4626.18 लाख की स्वीकृति दी .

वहीं राज्य के नये नगर निकाय के गठन के बाद 4503 पदो को सृजित किया है. जिसे कैबिनेट ने मंजूरी दी है.

कैबिनेट ने पटना मेंट्रो के लिये नये डायरेक्टर और डायरेक्टर इलेक्ट्रिकल सिस्टम को स्वीकृति दी गयी है. श्री कुमार ने बतलाया कि राज्य के सभी थाने में सीसीटीवी कैमरा लगाने के लिये कैबिनेट ने 74 करोड़ रूपये स्वीकृत किये है.

बता दें कि होली की लंबी छुट्टी के बाद सीएम नीतीश और सरकार के मंत्री काम पर लौटे हैं. ऐसे में होली के तुरंत बाद की यह कैबिनेट मीटिंग कई बड़ै फैसलों का गवाह बनी. कैबिनेट की बैठक को लेकर मुख्यमंत्री सचिवालय संवाद की सुरक्षा-व्यवस्था भी काफी बढ़ा दी गई थी. बड़ी संख्या में पुलिस बल को संवाद के बाहर तैनात किया गया था.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More