बिहार बजट 2021: 2 लाख 18 हजार करोड़ का बजट पेश, महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए 200 करोड़ का प्रावधान

बिहार के डिप्टी CM सह वित्त मंत्री तार किशोर प्रसाद ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए 2 लाख 18 हजार 303 करोड़ रुपए का अनुमानित बजट पेश किया है. तारकिशोर प्रसाद पहला और नीतीश सरकार का 16वां बजट पेश किया. इस दौरान उन्होंने सरकार द्वारा बीते वित्तीय वर्ष में किए कामों को सदन के सामने रखा. इस दौरान उन्होंने 3 शेर भी पढ़े. वित्त मंत्री ने 55 मिनट के बजट भाषण में 2 लाख 18 हजार 303 करोड़ रुपये का बजट पेश किया. ये बीते साल से 6542 करोड़ रुपए ज्यादा है.

बिहार सरकार के इस बजट में युवाओं, बेरोजगारों और किसानों के साथ-साथ प्रदेश के विकास की योजनाओं के लिए राशि जारी करने का भरोसा दिया गया है. साथ ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की महत्वाकांक्षी सात निश्चय योजना के दूसरे चरण को भी बढ़ाने के लिए 4671 करोड़ की राशि का प्रावधान किया गया है. 

बिहार बजट भाषण की मुख्य बातें :

  • 2020-25 में रोजगार के 20 लाख से ज्यादा अवसर पैदा किए जाएंगे, सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्र में 20 लाख से ज्यादा रोजगार सृजित किया जाएगा. इसके लिए 2021-22 में 200 करोड़ रुपये व्यय किया जाएगा. प्रत्येक प्रमंडल में टूल रूम एवं ट्रेनिंग सेंटर स्थापित किया जाएगा, इनमें आईटीआई एवं पॉलिटेक्निक से प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को अत्याधुनिक मशीनों पर नई तकनीक की ट्रेनिंग दी जाएगी. इसके साथ-साथ 10वीं एवं 12वीं पास युवकों के लिए भी इनमें दीर्घकालीन प्रशिक्षण की व्यवस्था होगी.
  • सरकार द्वारा महिलाओं को सरकारी नौकरी में 35 फीसदी आरक्षण. सरकारी ऑफिस में आरक्षण के अनुरूप संख्या बढ़ाई जाएगी. महिलाओं को उद्योग के लिए 5 लाख तक ब्याज मुक्त ऋण दिया जाएगा. उच्च शिक्षा के लिए अविवाहित महिलाओं को 25 हजार और स्नातक उत्तीर्ण होने पर महिलाओं को 50 हजार की आर्थिक सहायता दी जाएगी.
  • राज्य के प्रत्येक राजकीय आईटीआई एवं पॉलिटेक्निक संस्थान में प्रशिक्षण की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए उच्च स्तरीय सेंटर ऑफ एक्सीलेंस बनाने की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है. मार्गदर्शन एवं नई स्किल में प्रशिक्षण के लिए हर जिले में मेगा स्किल सेंटर खोला जाएगा.
  • सरकार ने किसानों की आय दोगुनी करने के लिए सिंचाई की पर्याप्त व्यवस्था की है. हर खेत में पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी. हर खेत में पानी पहुंचाने की योजना के लिए 550 करोड़ का का बजट प्रावधान. हर गांव मे सोलर लाइन लगाई जाएगी. सभी गांव में सोलर स्ट्रीट लाइट के लिए 150 करोड़ का बजट प्रावधान.
  • गोवंश विकास की स्थापना की जाएगी. पशुओं के इलाज के लिए कॉल सेंटर के जरिए डोर स्टेप इलाज की व्यवस्था. मोबाइल एप के माध्यम से मिलेगी सुविधा. बिहार में मछली उत्पादन को बढ़ाया जाएगा, ताकि यहां की मछली दूसरे राज्यों में जाए.
  • पशुओं के इलाज की बेहतर व्यवस्था की जाएगी. बजट में पशुधन के स्वास्थ्य के लिए 500 करोड़ की राशि का प्रावधान किया गया है. गो वंश विकास की स्थापना की जाएगी. पशुओं के इलाज के लिए कॉल सेंटर के जरिए डोर स्टेप इलाज की व्यवस्था. मोबाइल एप के माध्यम से मिलेगी सुविधा.
  • बिहार के सभी शहरों में जलजमाव की समस्या को दूर करने के लिए 450 करोड़ राशि का प्रावधान बजट में किया गया है. बुजुर्गों के लिए आश्रय स्थल बनाए जाएंगे, बजट में इसके लिए 90 करोड़ की व्यवस्था की गई.
  • गांवों में संपर्क सड़क बनाने की योजना. इस योजना पर 250 करोड़ का प्रावधान. शहरी क्षेत्र में बाईपास और फ्लाई ओवर बनाये जाएंगे. इसके लिए बजट 200 में करोड़ का प्रावधान किया गया है.
  • वित्तीय वर्ष 2021-22 में 9,195 करोड़ रुपये राजस्व बचत का अनुमान है. वहीं 2021-22 में राजकोषीय घाटा 22,510 करोड़ रुपये है. ये राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद 7,57,026.00 का 2.97 प्रतिशत है.
You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More