मानवता हुई शर्मसार: पिता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट लेने पहुंचे मासूम भाई-बहन से स्वास्थ्य कर्मियों ने 2500 रुपये का नजराना माँगा

बक्सर: भारत सरकार के स्वास्थ्य परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के संसदीय क्षेत्र के सदर अस्पताल से मानवता को शर्मसार कर देने वाली खबर सामने आई है. पिता की मौत के बाद पोस्टमॉर्टम हुआ था. 7 साल का बेटा पिता की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट लेने अस्पताल पहुंचा. जहां स्वास्थ्य कर्मियों ने मासूम भाई-बहन से 2500 रुपये की मांग की. दोनों मासूम स्वास्थ्य कर्मियों के सामने गिड़गिड़ाते रहे लेकिन कर्मियों का दिल नहीं पसीजा.

सिविल सर्जन डॉक्टर नरेश कुमार ने कहा कि बच्चों से स्वास्थ्यकर्मी ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट देने के एवज में 2500 रुपये मांगने की खबर सामने आई है. जांच की जा रही है. दोषियों जो होंगे उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

26 दिसम्बर को हरिपुर के रहने वाले राजुकमार यादव इटाढ़ी थाना क्षेत्र से दैनिक मजदूरी कर देर शाम अपने घर वापस लौट रहे थे तभी रास्ते में ही स्कार्पियो सवार ने उन्हें कुचल दिया. जिसमें घटना स्थल पर ही उनकी मौत हो गई. घटना के डेढ़ माह बीत जाने के बाद भी जब पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट उपलब्ध नहीं कराई तो मृतक के 7 वर्षीय पुत्री प्रतिमा और 6 बर्षीय पुत्र अभिषेक पोस्टमार्टम रिपोर्ट लेने सदर अस्पताल पहुंच गए.

जहां ड्यूटी में तैनात स्वास्थ्य कर्मियों से जब उन्होंने पोस्टमार्टम रिपोर्ट की मांग की तो उसके एवज में स्वास्थ्य कर्मियों ने ढाई हजार रुपये की नजराना की मांग कर दी. काफी देर तक बच्चों के गिड़गिड़ाने के बाद भी जब स्वास्थ्य कर्मियो उनकी एक नहीं सुनी. उसी दौरान अस्पताल में मौजूद किसी व्यक्ति ने इस पूरे दृश्य को फेसबुक लाइव कर दिया गया. जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियो में हड़कम्प मच गया.

मृतक के 7 वर्षीय पुत्री प्रतिमा और 6 वर्षीय पुत्र अभिषेक ने बताया कि अभी तक पिता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं मिली है. जिसके कारण हम कहीं भी किसी योजना का लाभ लेने के लिए क्लेम भी नहीं कर पा रहे हैं. घर में अन्न का एक दाना तक नहीं है. पिता जी के गुजर जाने के बाद अब हमलोगों पर ही जिम्मेवारी आ गई है. डेढ़ माह हो गया लेकिन अभी तक पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं मिला है. जब हमलोगों ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट की मांग की तो वहां के स्वास्थ्य कर्मी के द्वारा ढाई हजार रुपये की मांग की गई.

वहीं, इस मामले को लेकर सदर कांग्रेस विधायक संजय तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी ने कहा कि यह मानवता को शर्मशार कर देने वाली घटना है. आमतौर पर स्वास्थ्य कर्मी पोस्टमार्टम रिपोर्ट पुलिस को ही सुपुर्द करते हैं. यह जानकारी स्वास्थ्य कर्मियों को उन बच्चों को दे देनी चाहिए. लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट के एवज में पैसा की जो मांग की गई है. यह अति गम्भीर मामला है. 17 फरवरी को निगरानी की बैठक में और 19 फरवरी से शुरू हो रहे विधानमंडल सत्र के दौरान इस मामले को सदन में उठाऊंगा.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More