समलैंगिक विवाह: धनबाद में दो नाबालिग लड़कियों ने मंदिर में रचाई शादी, बालिग होने तक अलग रहने पर बनी सहमति

धनबाद: कहते है जब इश्क परवान चढ़ता है, तो जाति, धर्म, भेदभाव हर कुछ खत्म हो जाता है. झारखंड के धनबाद में भी कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है, जहां दो नाबालिग सहेलियों ने आपस में मंदिर में जाकर शादी रचा ली और परिवार से अलग रहने की ठानी. हालांकि, लेस्बियन कपल में एक की उम्र 14 साल है तो दूसरी 13 साल की है, जिस कारण पुलिस ने इन दोनों लेस्बियन को फिलहाल बालिग होने तक अपने-अपने परिवार के पास रहने को भेज दिया है.

दोनों लेस्बियन सहेलियों का नाम पूजा है. दोनों धनबाद के सरायढेला थाना क्षेत्र के सुगियाडीह की रहने वाली हैं. इस लेस्बियन कपल में से एक 14 वर्षीय पूजा अपने आपको अपनी प्रेमिका का पति बताती है. वो लड़कों जैसे हेयर स्टाइल और कपड़े पहनती है और किसी लड़के की ही तरह बिना किसी झिझक के बेधड़क किसी भी सवाल का जवाब भी देती है. 

जबकि 13 वर्षीय पूजा एक लड़की की तरह काफी सौम्य और सरल नजर आती है. वो हर सवाल का जवाब भी काफी रुक कर और अपने प्रेमी से उसका जवाब सुनकर ही देती है.

इस लेस्बियन कपल में पति बनी 14 वर्षीय पूजा ने बताया कि वो दोनों बचपन से ही एक दूसरे से बेपनाह मोहब्बत करते है. वो दोनों एक दूसरे के बिना जिंदा नही रहने की बात कहती है. उसने बताया कि कुछ दिन पूर्व ही उन्होंने घर से भागकर एक मंदिर में जाकर एक दूसरे से शादी रचा ली. पास ही एक झोपड़ी में रहने लगी. इस बीच उन दोनों  ने अपने एक फ्रेंड से भी मदद लेनी चाही लेकिन ऐसा मामला देख उसके फ्रेंड ने भी उनकी मदद करने से मना कर दिया. इसके बाद वो दोनों अपने घर वापस आ गए.

इसी बीच 13 वर्षीय पूजा की मां ने पूजा की मांग में सिंदूर और गले मे मंगलसूत्र देखा. इसके बाद पूरे मामले का खुलासा हुआ.

परिजनों ने लड़की से इस बारे में पूछा तो उसने बताया कि उसने पास में रहने वाली एक लड़की से शनिवार को मंदिर में शादी कर ली है. यह सुनते ही परिजनों के होश उड़ गए. परिजन दूसरी लड़की के घर पहुंचे और मामले की जानकारी दी तो उसके फैमिली वाले भी परेशान हो गए. इधर, दोनों ही लड़कियां एक-दूसरे का साथ छोड़ने को तैयार नहीं थीं. उनका कहना है कि दोनों ही एक-दूसरे को बचपन से प्यार करतीं हैं.

इसके बाद मामला थाना पहुंचा. सरायसढेला थाना पुलिस ने दोनों को समझाने की कोशिश की पर वो नहीं मानी तो उन्हें महिला थाना लाया गया. यहां दोनों की काउंसलिंग की गई. इस दौरान दोनों ही लड़कियां एक साथ ही रहने पर अड़ी रहीं. हालांकि काफी समझाने के बाद दोनों ने यह माना कि बालिग होने के बाद दोनों एक साथ रहेंगी. फिलहाल दोनों अलग-अलग अपने परिजनों के साथ रहेंगी. इसके बाद थाना में बांड भरने के बाद दोनों अपने-अपने परिवार के साथ घर चलीं गईं.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More