छपरा: हैवान मामी ने अपने ढाई साल के भांजे की दीवार में सिर टकराकर ले ली जान

बिहार के छपरा से बड़ी खबर सामने आ रही है जहां मामी ने अपने ही भगिने (भांजे) की हत्या कर लाश को डाइनिंग टेबल के अंदर कार्टन (गत्ते के डब्बे) में बंद कर छिपा दिया.घटना छपरा के दाउदपुर की है.

इस सनसनीखेज मामले के सामने आने के बाद पुलिस ने देर रात बच्चे के शव को बरामद कर लिया.आप को बता दें पुलिस ने हत्या के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. इस संबंध में एकमा थाना क्षेत्र के माने गांव निवासी मृतक बालक के दादा रघुवंश प्रसाद ने दाउदपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है. इसके अनुसार दाउदपुर चट्टी निवासी संजय साह की पत्नी माला देवी के द्वारा दीवार में सर टकरा कर बालक अंशु की हत्या कर दी है. 

लोगों का कहना है कि मासूम को इसलिए मार डाला, क्योंकि ननद ने दूसरी बार भी बेटे को जन्म दिया है, जबकि इसने एक माह पहले एक बच्ची को जन्म दिया था. इसी जलन ने उसे हत्यारन बना दिया.

किसी को पता नहीं चले, इसलिए बच्चे की लाश को डाइनिंग टेबल के अंदर कार्टन में बंद कर दिया. यहां गुरुवार शाम से लापता अंशु जब कहीं नहीं मिला तो इसकी सूचना पुलिस को दी गई, जिसके बाद देर रात मासूम का शव डाइनिंग टेबल के अंदर कार्टन में बंद मिला. अंशु की मां अभी अस्पताल में भर्ती है, वह गहरे सदमे में है. थानाध्यक्ष सुजीत कुमार चौधरी ने बताया कि आरोपी मामी यानी माला देवी को गिरफ्तार कर लिया गया है. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है.

ननद से ईर्ष्या में माला देवी ने अंशु की जान ले ली. दाउदपुर निवासी अजय कुमारी की पुत्री प्रतिमा ने एक सप्ताह पहले ही अपने दूसरे बेटे को जन्म दिया था. वह अपनी मां और भाभी के पास अंशु को छोड़कर अस्पताल में थी. इसी बीच मामी ने अंशु को मार डाला. थाने में दर्ज FIR के मुताबिक माला देवी ने ईर्ष्या में उसकी हत्या की है. माला को एक महीने पहले बेटी हुई थी.

अंशु की हत्या करने के बाद मामी ने बच्चे के शव को कार्टन में पैक कर कमरे में छुपा दिया. लोगों को इसकी कानोंकान भनक नहीं लगे, इसलिए खुद ही शोर मचाने लगी. आस-पड़ोस के लोगों की भीड़ इकट्ठी हो गई.

हांलाकि, गिरफ्तारी के बाद माला देवी ने दलील दी है कि अंशु ने ऑपरेशन वाली जगह पर चोट लगा दी थी, जिसके बाद उसने अंशु को धक्का दे दिया. इससे अंशु दीवार से जा टकराया और उसके सिर से खून निकलने लगा. डर के कारण उसने अंशु को कार्टून में बंद कर दिया.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More