पुलिस ने नाम पर कलंक: 1 महीने से लापता बेटी को खोजने के बदले SI ने दिव्यांग मां से मांगी घूस, उन्होंने भीख मांगकर गाड़ी में भरवाया 12 हजार का डीजल

कानपुर : उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक दिव्यांग महिला ने आरोप लगाया है कि उन्होंने स्थानीय पुलिसकर्मियों की गाड़ी में 10 से 15 हजार रुपए का डीजल डलवा दिया है, ताकि वो उसकी नाबालिग लड़की को ढूंढ़ सकें, जिसका पिछले महीने एक रिश्तेदार ने अपहरण कर लिया था. बैसाखी की मदद से चलने वाली महिला सोमवार को उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ शिकायत लेकर कानपुर पुलिस प्रमुख के पास पहुंची. कमिश्नर दफ्तर के बाहर स्थानीय मीडिया से बात करते हुए गुडिया नाम की इस विधवा महिला ने बताया कि उन्होंने पिछले महीने अपनी बेटी के लापता होने की शिकायत दर्ज करवाई थी. लेकिन पुलिस उनकी मदद नहीं कर रही है.

मामला उत्तर प्रदेश में कानपुर जिले के थाना चकेरी के सनिगवां गांव का है. यहां रहने वाली गुड़िया बैसाखी के सहारे चलती है और भीख मांगकर गुजारा करती है. उसकी 15 साल की बेटी एक महीने से लापता है. दूर के रिश्तेदार पर अगवा करने का आरोप है. गुड़िया की शिकायत पर पुलिस ने गुमशुदगी तो दर्ज कर ली, लेकिन बेटी की बरामदगी की फरियाद लिए जब भी थाने जाती उसे फटकार भगा देते थे.

एक दिन SI राजपाल सिंह ने गुड़िया से बेटी को तलाशने के एवज में गाड़ी में डीजल भरवाने को बोला. उसने पेशकश मान ली, फिर यह सिलसिला चल पड़ा. हालांकि, जब वह बेटी की बरामदगी की बात करती तो चौकी इंचार्ज वादा कर देते. मजबूरी में उसने DIG डॉक्टर प्रितिंदर सिंह से गुहार लगाई. गुड़िया का आरोप है कि वह भीख मांगकर अब तक 10 से 12 हजार का डीजल भरवा चुकी है.

गुड़िया का कहना है कि वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ऑफिस तक शिकायत करने गई थी, लेकिन उसकी वहां भी सुनवाई नहीं हुई. अब DIG ने SI को सस्पेंड कर दिया है. मामले की विभागीय जांच कराई जा रही है. लड़की की बरामदगी के लिए चार टीमें बनाई गई हैं.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More