नीतीश कैबिनेट में 20 एजेंडों पर लगी मुहर, ठेके पर बहाल कर्मियों को मिलेगा वेटेज

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में बिहार कैबिनेट की आज बैठक हुई है. इस बैठक में 20 एजेंडों पर मुहर लगाईं गई है.

मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में नीतीश सरकार ने निर्णय लिया है कि अब ठेके पर बहाल कर्मियों को वेटेज मिलेगा.बताया जा रहा है कि 60 साल तक की उम्र तक इनकी नौकरी रहेगी. बेल्ट्रान के कर्मी को आउटसोर्सिंग ही माना जायेगा. चौधरी कमिटी पार्ट-2 पर कैबिनेट की मुहर लगी है.

शेखपुरा सदर अस्पताल के डॉक्टर मोहम्मद समीर हयात को 2012 से अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित रहने के आरोप में सेवा से बर्खास्त किया गया है.

सुशासन के कार्यक्रम में 2020-25 के तहत मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना अंतर्गत उच्चतर शिक्षा हेतु प्रेरित करने के लिए वित्तीय वर्ष 2021-22 से इंटर उत्तीर्ण होने पर अविवाहित कन्याओं को 25000 एवं स्नातक या समकक्ष उत्तीर्ण होने पर 50000 की आर्थिक सहायता की स्वीकृति प्रदान की गई है.

बिहार राज्य के सभी नगर निकाय क्षेत्रों के अंतर्गत निर्मित सभी पार्कों का अनुरक्षण एवं विकास पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग द्वारा कराए जाने की स्वीकृति दी गई है.बिहार पुलिस में सिपाही के पद पर सीधी भर्ती हेतु आयोजित की गई लिखित परीक्षा के पाठ्यक्रम संबंधी बिहार पुलिस हस्तक 1978 के खंड 3 के परिशिष्ट 103 कंडिका 1 (छ) के पूर्व से विद्यमान प्रावधानों को युक्तियुक्त बनाने हेतु आवश्यक संशोधन किए गए हैं.

राज्य के 6 डॉक्टरों को कई दिनों से लगातार अपनी ड्यूटी से अनधिकृत रूप से गायब रहने के कारण सरकार ने बर्खास्त कर दिया है. लापरवाही के कारण यह एक्शन लिया गया है. बेगूसराय के बलिया की पीएचसी प्रभारी ज्योति सुल्तानियां, शेखपुरा सदर हॉस्पिटल के डॉ मोशब्बिर हयात असकरी को बर्खास्त किया गया है.

इनके अलावा लखीसराय जिले के हलसी पीएचसी के प्रभारी रामचंद्र प्रसाद, रोहतास के पीएचसी प्रभारी डॉ इंदु ज्योति, गोपालगंज जिले के फुलवरिया रेफरल हॉस्पिटल की डॉक्टर संगीता पंकज और बेगूसराय जिले के साहेब कमालपुर पीएचसी के प्रभारी डॉ सुनील कुमार पाठक को तत्काल प्रभाव से सेवा से बर्खास्त किया गया है. 

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More