Budget 2021-22: इनकम टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद में देश का आम बजट पेश कर रही हैं. वित्त मंत्री देश के विभिन्न सेक्टर्स के लिए बजट का आवंटन करेंगी. ये बजट पूरी तरह से पेपरलेस है, इसलिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मेड इन इंडिया टैब में बजट पढ़ रही हैं. ये डिजिटल इंडिया को प्रोत्साहन देने वाला कदम है.

वित्त मंत्री ने इस साल चुनाव वाले 4 राज्यों तमिलनाडु, केरल, बंगाल और असम में रोड इन्फ्रास्ट्रक्चर पर 2.27 लाख करोड़ रुपए खर्च करने का ऐलान किया है. इसमें बंगाल से ज्यादा फोकस तमिलनाडु पर रहा है. अब तक की घोषणाओं में स्वास्थ्य और इन्फ्रास्ट्रक्चर पर ज्यादा फोकस रहा है.

बजट की मुख्य बातें

  • सैलरीड क्लास के लिए इनकम टैक्स को लेकर कोई बदलाव नहीं किया गया.
  • सोलर इन्वर्टर, मोबाइल , चार्जर महंगे हो सकते हैं. वहीं सोने चांदी सस्ते हो सकते हैं.
  • एग्री इंफ्रा डेवलपमेंट सेस लगाया जाएगा.
  • सिल्क पर 15 परसेंट कस्टम ड्यूटी लगाने का ऐलान.
  • चुनिंदा ऑटो पार्ट्स पर 15 परसेंट कस्टम ड्यूटी लगाई जाएगी.
  • नायलॉन और पेंट सस्ते होंगे.
  • लोहा, स्टील और तांबा सस्ता होगा.
  • 1 अक्टूबर 2021 से नया कस्टम ड्यूटी सिस्टम लागू होगा.
  • स्टार्टअप शुरू करने वालों के लिए अच्छी खबर, 31 मार्च 2022 तक कोई टैक्स नहीं देना होगा.

टैक्स

  • आजादी की 75वीं सालगिरह पर हम 75 साल और उससे ज्यादा उम्र के सीनियर सिटीजंस को राहत देना चाहते हैं. उन्हें अब IT रिटर्न फाइल करने की जरूरत नहीं होगी.
  • वित्त मंत्री ने कहा कि छोटे करदाताओं को टैक्स में राहत देंगे. NRIs के लिए डबल टैक्सेशन में राहत देने कि लिए नियम बनाए जाएंगे
  • अभी टैक्स रिअसेसमेंट 6 साल और गंभीर मामलों में 10 साल बाद भी केस खोले जा सकते थे. अब इसे घटाकर 3 साल किया जा रहा है. गंभीर मामलों में जब एक साल में 50 लाख से ज्यादा की इनकम छिपाने की बात होगी, तभी 10 साल तक केस खोले जा सकेंगे. कमिश्नर ही इसकी मंजूरी देंगे.
  • 85 हजार करोड़ रुपए के टैक्स डिस्प्यूट हाल ही में खत्म हुए हैं. डिस्प्यूट रिजॉल्यूशन कमेटी बनाई जाएगी. 50 लाख से तक की इनकम और 10 लाख तक की विवादित इनकम वाले लोग इस कमेटी के पास जा सकेंगे. नेशनल फेसलेस अपीलेट ट्रिब्यूनल बनेगा.
  • अगर अभी टर्नओवर 1 करोड़ से ज्यादा हो जाता है तो टैक्स ऑडिट करना होता है. 95% डिजिटल ट्रांजैक्शन करने वालों के लिए यह छूट बढ़ाकर पिछली बार 5 करोड़ टर्नओवर की गई थी. इसे बढ़ाकर अब 10 करोड़ किया जा रहा है.

डिविडेंड पेमेंट पर अब TDS नहीं लगेगा

सभी के लिए घर हमारे लिए प्रायोरिटी है। होम लोन पर ब्याज में 1.5 लाख रुपए की कटौती का प्रावधान था। अब किफायती घर के लिए ब्याज में 1.5 लाख रुपए की एक्स्ट्रा छूट 31 मार्च 2022 तक मिलेगी

गरीबों के लिए

  • वन नेशन, वन राशन कार्ड को 32 राज्यों में लागू किया जाएगा. 86% लोगों को इसमें कवर किया जा चुका है.
  • उज्ज्वला योजना का फायदा 1 करोड़ और महिलाओं तक पहुंचाया जाएगा.

असम-बंगाल की टी-वर्कर्स महिलाओं के लिए 1000 करोड़
वित्त मंत्री ने कहा, “अगली जनगणना पहली डिजिटल जनगणना होगी. इस पर इस साल 3768 करोड़ रुपए खर्च होंगे. गोवा पुर्तगाल से आजादी का डायमंड जुबली ईयर सेलिब्रेट कर रहा है. इसके लिए 300 करोड़ रुपए दिए जाएंगे. असम और बंगाल की महिला टी-वर्कर्स और उनके बच्चों के लिए 1000 करोड़ रुपए दिए जाएंगे.”

एजुकेशन के लिए

  • एनजीओ, राज्य सरकारों और प्राइवेट सेक्टर की मदद से 100 नए सैनिक स्कूलों की शुरुआत होगी.
  • लद्दाख में हायर एजुकेशन के लिए लेह में सेंट्रल यूनिवर्सिटी बनाई जाएगी.
  • आदिवासी क्षेत्रों में 750 एकलव्य मॉडल स्कूलों में सुविधाओं का सुधार होगा.
  • अनुसूचित जाति के 4 करोड़ बच्चों के लिए 6 साल में 35219 करोड़ रुपए खर्च होंगे.
  • आदिवासी बच्चों के लिए पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप भी लाई जाएगी.

किसानों के लिए

  • 2021-22 में एग्रीकल्चर क्रेडिट टारगेट 16.5 लाख करोड़ का है. ऑपरेशन ग्रीन स्कीम में जल्द खराब होने वाली 22 फसलों को शामिल किया जाएगा.
  • एग्रीकल्चर इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड तक एपीएमसी की भी पहुंच होगी. कोच्चि, चेन्नई, विशाखापट्‌टनम, पारादीप और पेटुआघाट जैसे शहरों में 5 बड़े फिशिंग हार्बर बनेंगे. तमिलनाडु में मल्टीपर्पज सी-विड पार्क बनेगा.

इंश्योरेंस-बैंकिंग सेक्टर के लिए

  • इंश्योरेंस एक्ट 1938 में बदलाव होंगे. इंश्योरेंस सेक्टर में FDI को 49% से बढ़ाकर 74% किया जाएगा.
  • IDBI के साथ-साथ दो बैंक और एक पब्लिक सेक्टर कंपनी में विनिवेश होगा. इसके लिए कानून में बदलाव होंगे। LIC के लिए भी IPO लाया जाएगा.
  • सरकारी बैंकों में 20,000 करोड़ का निवेश किया जाएगा, बैंकों को NPA से छुटकारा दिलाने के लिए एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी और एसेट मैनेजमेंट कंपनी बनाई जाएगी.

हेल्थ के लिए

  • कोरोना वैक्सीन पर 2021-22 में 35,000 करोड़ खर्च किए जाएंगे. जरूरत पड़ी तो और ज्यादा फंड दिया जाएगा.
  • न्यूट्रिशन पर भी ध्यान दिया जाएगा. मिशन पोषण 2.0 शुरू किया जाएगा. वॉटर सप्लाई भी बढ़ाएंगे. 5 साल में 2.87 लाख करोड़ रुपए खर्च होंगे.
  • शहरी इलाकों के लिए जल जीवन मिशन शुरू किया जाएगा. शहरी स्वच्छ भारत मिशन पर 1.48 लाख करोड़ 5 साल में खर्च होंगे.
  • निमोकोक्कल वैक्सीन को देशभर में शुरू किया जाएगा. इससे 50 हजार बच्चों की हर साल जान बचाई जा सकेगी.
  • 64,180 करोड़ रुपए के बजट के साथ प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना शुरू होगी. यह बजट नई बीमारियों के इलाज के लिए भी होगा.
  • 70 हजार गांवों के वेलनेस सेंटर्स को इससे मदद मिलेगी. 602 जिलों में क्रिटिकल केयर हॉस्पिटल शुरू होंगे. नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल को मजबूत किया जाएगा.
  • इंटीग्रेटेड हेल्थ इन्फॉर्मेशन पोर्टल शुरू किया जाएगा ताकि पब्लिक हेल्थ लैब्स को कनेक्ट कर सकें. 15 हेल्थ इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर्स शुरू किए जाएंगे. 9 बायो सेफ्टी लेवल 3 लैब शुरू होंगी.

इन्फ्रास्ट्रक्चर

  • इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर के लिए डेवलपमेंट फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट की जरूरत है. इसके लिए एक बिल लाया जाएगा. 20 हजार करोड़ रुपए इस पर खर्च होंगे ताकि 5 लाख करोड़ रुपए का लैंडिंग पोर्टफोलियो 3 साल में बनाया जा सके.
  • पब्लिक इन्फ्रास्ट्रक्चर को मॉनेटाइज करने पर ध्यान दिया जाएगा. नेशनल मॉनेटाइजेशन पाइपलाइन लॉन्च होगी. इसका एक डैशबोर्ड बनेगा ताकि इस मामले में हो रही तरक्की को देखा जा सके.
  • नेशनल हाईवेज अथॉरिटीज भी अंतरराष्ट्रीय निवेश आकर्षित करेंगी। रेलवे भी फ्रेट कॉरिडोर को मॉनेटाइज करेगी. आगे जो भी एयरपोर्ट बनेंगे, उनमें भी मॉनेटाइजेशन पर ध्यान दिया जाएगा.

रेलवे

  • रेलवे ने नेशनल रेल प्लान 2030 बनाया है ताकि फ्यूचर रेडी रेलवे सिस्टम बनाया जा सके और लॉजिस्टिक कॉस्ट कम की जा सके. जून 2022 तक ईस्टर्न और वेस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर तैयार हो जाएगा. सोमनगर-गोमो सेक्शन पीपीपी मोड में बनाया जाएगा.
  • गोमो-डानकुनी सेक्शन भी इसी तरह बनेगा। खड़गपुर-विजयवाड़ा, भुसावल-खड़गपुर, इटारसी-विजयवाड़ा में फ्यूचर रेडी कॉरिडोर बनाए जाएंगे. दिसंबर 2023 तक 100% ब्रॉडगेज का इलेक्ट्रिफिकेशन होगा.
  • विस्टा डोम कोच शुरू होंगे ताकि यात्रियों को अच्छा अनुभव हो. हाई डेंसिटी नेटवर्क, हाई यूटिलाइज नेटवर्क पर ट्रेन प्रोटेक्शन सिस्टम शुरू किए जाएंगे। ये सिस्टम देश में बनेंगे.
  • 1.10 लाख करोड़ रुपए रेलवे को दिए जा रहे हैं। 1.07 लाख करोड़ रुपए सिर्फ कैपिटल एक्सपेंडिचर के लिए हैं।​​​​​.

मेट्रो

  • शहरी इलाकों में बस ट्रांसपोर्ट सिस्टम शुरू किया जाएगा. 20 हजार बसें तैयार होंगी. इससे ऑटो सेक्टर को मदद मिलेगी और रोजगार बढ़ेगा.
  • 702 किमी मेट्रो अभी चल रही हैं। 27 शहरों में कुल 1016 किमी मेट्रो पर काम चल रहा है. कम लागत से टियर-2 शहरों में मेट्रो लाइट्स और मेट्रो नियो शुरू होंगी.
  • कोच्चि मेट्रो में 1900 करोड़ की लागत से 11 किमी हिस्सा बनाया जाएगा. चेन्नई में 63 हजार करोड़ रुपए की लागत से 180 किमी लंबा मेट्रो रूट बनेगा.
  • बेंगलुरु में भी 14788 करोड़ रुपए से 58 किमी लंबी मेट्रो लाइन बनेगी. नागपुर 5976 करोड़ और नासिक में 2092 करोड़ से मेट्रो बनेगी.

चुनाव वाले 4 राज्यों के लिए

  • भारतमाला प्रोजेक्ट के लिए 3.3 लाख करोड़ रुपए दिए जा चुके हैं. रोड इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए इकोनॉमिक कॉरिडोर बनाए जाएंगे. 3500 किमी नेशनल हाईवेज प्रोजेक्ट के तहत तमिलनाडु में 1.03 लाख करोड़ रुपए खर्च होंगे. इसका कंस्ट्रक्शन अगले साल शुरू होगा.
  • 1100 किमी नेशनल हाईवे केरल में बनेंगे. इसके तहत मुंबई-कन्याकुमारी कॉरिडोर भी बनेगा. केरल में इस पर 65 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे.
  • बंगाल में 25 हजार करोड़ रुपए की लागत से हाईवे बनेंगे. कोलकाता-सिलीगुड़ी रोड का अपग्रेडेशन होगा. 34 हजार करोड़ रुपए असम में नेशनल हाईवेज पर खर्च होंगे.

व्हीकल स्क्रैपिंग

  • वॉलंटरी व्हीकल स्क्रैपिंग पॉलिसी लाई जाएगी, ताकि पुरानी गाड़ियों को हटाया जा सके. इससे प्रदूषण कम करने में मदद मिलेगी.
  • गाड़ियों का फिटनेस टेस्ट होगा. पर्सनल व्हीकल 20 साल बाद और कमर्शियल व्हीकल 15 साल बाद स्क्रैप किए जा सकेंगे.
You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More