मेडिकल छात्रा पूजा भारती केस में DIG का खुलासा- हत्या नहीं छात्रा ने की आत्महत्या

हजारीबाग: हजारीबाग मेडिकल कॉलेज की छात्रा पूजा भारती की मौत के मामले में पुलिस ने खुलासा किया है. डीआइजी एवी होमकर ने प्रेसवार्ता कर बताया कि अबतक की जांच के आधार पर छात्रा द्वारा आत्महत्या करने की बात सामने आई है.

उन्होंने कहा कि छात्रा के बैग और रूम से मिले कागजातों से प्रतीत होता है कि छात्रा मानसिक अवसाद में थी. हालांकि अभी भी कई बिंदुओं पर जांच चल रही है. पूरी जांच के बाद ही किसी ठोस नतीजे पर पहुंचा जा सकेगा.

डीआईजी ने कहा कि छात्रा के शरीर पर चोट के कोई निशान नहीं मिले थे. हाथ-पैर बंधे होने के सवाल पर डीआइजी ने कहा कि छात्रा ने स्वयं अलग-अलग रस्सियों का इस्तेमाल कर खुद को बांधा लिया होगा.

पतरातू डैम में तैरती लाश मिली थी

बता दें कि 12 जनवरी की सुबह मेडिकल छात्रा पूजा भारती की लाश रामगढ़ जिले के पतरातू डैम में तैराती हुई मिली थी. छात्रा के हाथ-पैर बंधे हुए थे. छात्रा गोड्डा की रहने वाली थी. और पहले सेमेस्ट का एग्जाम देने कुछ दिन पहले घर से कॉलेज आई थी. इस मामले में रामगढ़ और हजारीबाग पुलिस की स्पेशल टीम गठित कर छानबीन की गई. रामगढ़, हजारीबाग और गोड्डा में सुराग तलाशने की कोशिश हुई, लेकिन पुलिस को कोई खास सफलता नहीं मिली.

रामगढ़ एसडीपीओ ने बताया हत्या का मामला 

कुछ दिन पहले रामगढ़ के एसडीपीओ प्रकाश चंद्र ने बताया था कि जांच में ऐसा प्रतीत हो रहा है कि मेडिकल छात्रा की कहीं और हत्या की गई और शव को लाकर पतरातू डैम में फेंक दिया गया.

परिवारवाले भी पूजा भारती की हत्या होने की आशंका जताई है. पुलिस को अभी तक पूजा का मोबाइल नहीं मिला है. जांच में पुलिस को ये पता चला कि पूजा परीक्षा के दिन अपने हॉस्‍टल से ऑटो लेकर बस स्‍टैंड पहुंची. फिर हजारीबाग से बस से रांची के लिए निकली. वह बस से रांची आई. रांची से पतरातू डैम क्यों और कैसे गई, पुलिस अभी तक इससे पर्दा नहीं उठा पाई है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More