पंजाब-हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में ड्राई रन पूरी तरह कामयाब, अब वैक्सीन का इंतजार

कोरोना महामारी से निपटने के लिए शुक्रवार को पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में वैक्सीन का ड्राई रन हुई. सभी जगह डाई रन पूरी तरह कामयाब रही है. अब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ड्राई रन के सफल होने के बाद अब वैक्सीन मिलने का इंतजार कर रहे हैं. पंजाब में स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा कि राज्य प्रतिदिन टीके की 4 लाख डोज का प्रबंधन करने के लिए पूरी तरह समर्थ है. कोविन पोर्टल पर कुल 1,57,020 स्वास्थ्य कर्मियों का डाटा अपलोड किया गया है.

कोविड-19 वैक्सीन रोल आउट का सफल क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के लिए 2 और 3 जनवरी को पटियाला में यह पूर्वाभ्यास किया गया. शुक्रवार को फिर से प्रदेश के सभी जिलों में यह प्रक्रिया पूरी हो चुकी है. इस बारे मे पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने बताया कि भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार पूर्वाभ्यास का मकसद टीकाकरण के पूरे तरीके को समझना था, ताकि असली टीकाकरण के दौरान आने वाली चुनौतियों से निपटा जा सके.

पोर्टल पर कुल 1,57,020 स्वास्थ्य कर्मियों का डाटा अपलोड किया गया. साथ ही कोरोना टीकाकरण से पूर्व मेडिकल और पैरा मेडिकल स्टाफ को भी विशेष प्रशिक्षण दिया है. सिद्धू ने बताया कि जिला और ब्लॉक स्तर पर टास्क फोर्स का गठन किया गया है, जो स्टेट टास्क फोर्स की निगरानी में टीकाकरण अभियान को आगे बढ़ाएंगी। आज जिला अस्पतालों, मेडिकल कॉलेजों, निजी स्वास्थ्य सुविधा और शहरी,ग्रामीण आउटरीच केंद्रों में गठित सभी सेशन साइटों में टीके बारे में ड्राई रन पूरा किया है.

ऑब्जर्वेशन रूम में 30 मिनट इंतजार करना होगा

निर्धारित शेड्यूल के तहत मरीज को कुल 2 खुराक दी जाएंगी और दूसरी खुराक पहली से 28 दिन के समय में दी जाएगी. हर व्यक्ति को टीका लगवाने के बाद ऑब्जर्वेशन रूम में 30 मिनट इंतजार करना होगा, जिससे टीकाकरण के बाद किसी किस्म के बुरे प्रभाव या परेशानी की स्टडी की जा सकें.

हिमाचल में भी 36 केंद्रों पर ड्राई रन

हिमाचल प्रदेश में 36 केंद्रों पर कोरोना वैक्सीनेशन का ड्राई रन आयोजित किया गया. स्वास्थ्य अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि हिमाचल प्रदेश में 36 केंद्रों पर COVID-19 के खिलाफ टीकाकरण के लिए ड्राई रन चलाया गया.

हरियाणा में भी टैगिंग और SMS भेजने तक की प्रक्रिया सरलता से पूरी

उधर, हरियाणा के सभी 22 जिलों में यह प्रक्रिया पूरी हुई. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा ने कहा कि ड्राई रन का बारीकी से निरीक्षण किया गया. हरियाणा में इस रन में 3300 लाभार्थी शामिल हुए. हर जिले में स्लम क्षेत्र सहित तीन शहरी और तीन ग्रामीण इलाके मिलाकर छह चिह्नित सेशन साइट पर 132 सत्र आयोजित किए गए. इस दौरान विभिन्न गतिविधियों जैसे वेक्सीनेटर और सुपरवाइजर की पहचान करना, साइट की पहचान कर उसे पिन कोड के साथ टैग करना, कोविड-19 वैक्सीन के लाभार्थियों को SMS भेजना आदि को सरलता से किया गया.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More