डॉक्टरों का दावा: कोरोना रोगियों में फैल रहा खतरनाक ‘फंगल’ इन्फेक्शन, खत्म हो रही है आंखों की रोशनी

दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल के डॉक्टरों ने दावा किया है कि कोविड-19 से उबर रहे कई लोगों में ऐसा दुर्लभ और जानलेवा फंगल इंन्फेक्शन पाया जा रहा है, जिसके चलते उनमें से लगभग आधे लोगों की आंखों की रौशनी खत्म हो गई है. अस्पताल के अधिकारियों ने सोमवार को यह दावा किया.उन्होंने कहा कि अस्पताल के आंख-नाक-गला (ENT) चिकित्सकों के सामने बीते 15 दिन में ऐसे 13 मामले आए हैं.

डॉक्‍टरों ने कहा कि यह चिंताजनक समस्या दुर्लभ है, लेकिन नयी नहीं है. उन्होंने कहा, ‘कोविड-19 से होने वाला फंगल संक्रमण नयी बात है.’ अस्पताल ने एक बयान में कहा, ‘बीते 15 दिन में ईएनटी चिकित्सकों के सामने कोविड-19 के चलते फंगल संक्रमण के शिकार 13 मामले सामने आए हैं, जिनमें 50 प्रतिशत मामलों में रोगियों की आंखों की रोशनी चली गई.’

अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि वर्तमान में मृत्यु दर 50 फीसदी (पांच मरीजों) की सीमा में देखी जा रही है. पिछले कुछ समय में डॉक्टरों को लगभग 10 रोगियों का इस इंफेक्शन के लिए उपचार करना पड़ा था. लगभग 50 प्रतिशत अपनी दृष्टि को स्थायी रूप से खो देते हैं. इन पांच रोगियों को गंभीर हालत के कारण काफी देखभाल  की जरूरत पड़ रही है. बयान में कहा गया है कि इन मामलों में अब तक पांच मौतें हो चुकी हैं. SGRH के सलाहकार ईएनटी सर्जन वरुण राय ने कहा कि नाक बंद, आंख या गाल में सूजन जैसे लक्षण दिखने पर तुरंत ओपीडी में  ऐंटिफंगल थेरेपी जितनी जल्दी हो सके शुरु कर देनी चाहिए.

दिल्ली में सोमवार को कोविड-19 के नए 1376 मामले दर्ज किए गए, जो साढ़े तीन महीने में सबसे कम थे. 60 नए लोगों के साथ मरने वालों की संख्या 10,074 हो गई. अधिकारियों ने कहा कि पॉजिटिविटी रेट रविवार को 2.74 प्रतिशत से घटकर 2.15 प्रतिशत हो गया है. मंडे बुलेटिन में कहा गया है कि 5,83,509 मरीज ठीक हो गए हैं, उन्हें छुट्टी दे दी गई .

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More