Bihar Election: कल होगा तीसरे चरण की 78 सीटों के लिए मतदान, 1204 उम्मीदवारों के भाग्य का कल होगा फैसला

सात नवंबर को बिहार में मतदान का आखिरी चरण है. इस चरण में कुल 1204 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होना है। कुल 2,35,54,071 वोटर्स 33,782 इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन में प्रत्याशियों का भविष्य बंद करेंगे. तीसरे चरण के मतदान में कुल 110 महिला प्रत्याशियों का भाग्य भी दांव पर है. सबसे अधिक 31 प्रत्याशी गायघाट से चुनाव मैदान में हैं जबकि ढाका, त्रिवेणीगंज और जोकीहाट में 9 प्रत्याशी हैं. 15 जिलों में होने जा रहे मतदान में सुरक्षा को लेकर बड़ी तैयारी है.

बिहार चुनाव के पहले चरण में 28 अक्टूबर को 71 सीटों और दूसरे चरण के तहत 3 नवम्बर को 94 सीटों पर मतदान संपन्न हो चुका है. अब शनिवार को अंतिम चरण के मतदान के साथ ही इसकी पूर्णाहुति होनी है. इसी के साथ 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा की सभी सीटों पर चुनाव लड़ने वाले प्रतिनिधियों की किस्मत भी ईवीएम में कैद हो जाएगी.

बिहार विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण में बिहार के 15 जिलों  पश्चिम चंपारण, पूर्वी चम्पारण, सीतामढ़ी, मधुबनी, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, पूर्णिया, कटिहार, किशनगंज, सहरसा, दरभंगा, वैशाली, मुजफ्फरपुर और समस्तीपुर के 78 विधानसभा सीटों पर वोटिंग होने वाले है. इसके अलावा वाल्मीकि नगर संसदीय सीट के उपचुनाव के लिए भी मतदान होगा. 

बिहार के मुख्य चुनाव अधिकारी एच. आर श्रीनिवास के मुताबिक 78 में से 74 विधानसभा सीटों पर शाम 6 बजे तक वोटिंग होगी. इसके अलावा उन्होंने बताया कि वाल्मीकि नगर, रामनगर, सिमरी बख्तियारपुर और महिषी यानी कि कुल 4 नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में मतदान शाम 4 बजे तक ही होगा. मुख्य चुनाव अधिकारी ने यह भी बताया कि तीसरे चरण के कुल 33 हजार 782 मतदान केंद्रों में से 4 हजार 999 मतदान केंद्र संवेदनशील हैं. अपर मुख्य चुनाव अधिकारी संजय कुमार सिंह ने कहा कि नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुचारू मतदान सुनिश्चित करने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं.

चुनाव आयोग की ओर से मिली जानकारी के अनुसार तीसरे और आखिरी चरण में 2 करोड 35 लाख से अधिक मतदाता हैं. इस चरण में भारतीय जनता पार्टी 35, जनता दल यूनाइटेड 37, विकासशील इन्सान पार्टी पांच सीटें और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा एक सीट पर चुनाव लड़ रहे हैं. राष्ट्रीय जनता दल जहां 46 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, वहीं कांग्रेस ने 25 और वाम दलों ने सात सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं. दूसरी ओर, एलजेपी ने 42, आरएलएसपी 23, बीएसपी 19 और एनसीपी ने 31 उम्मीदवार खडे किए हैं.

चुनाव आयोग के मुताबिक गायघाट में सबसे ज्यादा 31 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं. जबकि बहादुरगंज, जोकिहाट, त्रिवेणीगंज और ढाका में सबसे कम 9-9 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं. चुनाव आयोग ने बताया कि आखिरी चरण के लिए कुल 78 विधानसभा क्षेत्रों में 1411 उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल किया था. इनमें 162 उम्मीदवारों का नामांकन पत्र जांच में अस्वीकृत किया गया था.

इस चरण में सीतामढ़ी के सिंहवाहिनी पंचायत की मुखिया रहीं रितु जायसवाल परिहार सीट से चुनाव लड़ रही हैं. राजद की तरफ से मैदान में उतरी रितु को भाजपा की उम्मीदवार गायत्री देवी से मुकाबला करना है. आनंद मोहन की पत्नी लवली आनंद इस बार राजद के टिकट पर सहरसा से चुनाव लड़ रही हैं. विधानसभा अध्यक्ष रहे विजय कुमार चौधरी सरायरंजन सीट से सत्ताधारी दल जेडीयू के उम्मीदवार हैं.

वीआईपी पार्टी के प्रमुख और एनडीए के साथी मुकेश सहनी इस बार सिमरी बख्तियारपुर सीट से मैदान में हैं. राजद के बड़े नेता और पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दिकी केवटी सीट पर किस्मत आजमा रहे हैं. बिहार सरकार में नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा एकबार फिर मुजफ्फरपुर सीट से भाजपा के उम्मीदवार हैं. बिहार सरकार के योजना एवं विकास मंत्री महेश्वर हजारी कल्याणपुर से चुनाव लड़ रहे हैं. वहीं सरकार के पीएचईडी मंत्री रहे विनोद नारायण झा बेनीपट्‌टी सीट से भाजपा के टिकट पर मैदान में हैं. बिहार सरकार में पिछड़ा-अति पिछड़ा कल्याण मंत्री रहे बीजेपी के दिवंगत नेता विनोद सिंह की पत्नी निशा सिंह इस बार प्राणपुर की सीट से मैदान में हैं.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More