राजस्थान: करौली में मंदिर की जमीन के विवाद में पुजारी को पेट्रोल डालकर जिंदा जलाया, आरोपी गिरफ्तार, वसुंधरा राजे ने सरकार पर साधा निशाना

राजस्थान में करौली जिले के बूकना गांव में मंदिर की जमीन को लेकर दो पक्षों के बीच हुए विवाद में पुजारी को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया गया. पुजारी की इलाज के दौरान मौत हो गई. पुलिस ने पुजारी पर पेट्रोल डालने के मुख्य आरोपित कैलाश मीणा को गिरफ्तार कर लिया.बाकी आरोपियों की तलाश जारी है.

पुलिस अधीक्षक मृदुल कछ्वा ने बताया कि आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है. मामले की जांच की जा रही है. आग से झुलसे पूजारी ने जयपुर के एसएमएस अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. पुजारी पर पेट्रोल डालने की घटना बुधवार देर शाम को हुई. पुलिस के अनुसार मृतक पुजारी बाबूलाल वैष्णव ने पर्चा बयान में बताया था कि मेरा परिवार 15 बीघा मंदिर माफी जमीन पर खेती करता था. आरोपी कैलाश, शंकर व नमो मीणा ने उसकी जमीन पर जबरन कब्जा कर लिया. पंच-पटेलों ने मंदिर की जमीन पर किसी व्यक्ति द्वारा पुजारी के अलावा मकान आदि नहीं बनाने का फरमान सुनाया था.

बुधवार शाम को कैलाश, शंकर, नमो, किशन, रामलखन व परिवार ने जमीन पर कब्जा कर छप्पर तानने लग गए. बुजुर्ग पुजारी ने उन्हे रोकने का प्रयास किया तो आरोपितों ने बाजरे की कड़बी और पेट्रोल की बोतल डालकर आग लगा दी . इससे पुजारी बुरी तरह झुलस गया. गंभीर स्थिति में पुजारी को जयपुर के एसएमएस अस्पताल पहुंचाया गया, जहां इलाज के दौरान मौत हो गई. मुख्य आरोपित को गिरफ्तार करने के साथ ही अन्य आरोपितों की तलाशी के लिए पुलिस की अलग-अलग टीम गठित की गई है.

करौली जिले के सपोटरा में एक पुजारी को जिंदा जलाकर मार डालने का मामला गरमा गया है. वहीं पूर्व सीएम वसुंधरा राजे और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी सरकार को आड़े हाथों लिया है.

सीएम अशोक गहलोत ने भी ट्वीट कर कहा है कि घटना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण एवं निंदनीय है. दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. हालांकि पुलिस ने मामले में दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है.

 पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने जहां कांग्रेस सरकार को आड़े हाथों लिया है वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी कहा कि प्रदेश में अपराधियों में कानून का भय समाप्त हो गया है. राजे ने ट्वीट कर कहा कि इस घटना की जितनी निंदा की जाए कम है. प्रदेश में अपराध का ग्राफ जिस गति से बढ़ रहा है उससे स्पष्ट है यहां महिलाएं, बच्चे, बूढ़े, दलित और व्यापारी कोई भी सुरक्षित नहीं हैं. कांग्रेस सरकार को गहरी नींद त्यागकर, दोषियों को सजा दिलाकर परिजनों को तुरंत न्याय दिलाना चाहिए.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More