मध्यप्रदेश: डीजी रैंक के अधिकारी पुरुषोत्तम शर्मा ने अपनी पत्नी को बेरहमी से पीटा, वीडियो वायरल

मध्य प्रदेश के भोपाल में एक हैरान करने वाली घटना सामने आई है.जहां मध्य प्रदेश लोक अभियोजन के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा का पत्नी के साथ बड़ी बेरहमी से मारपीट करते हुए सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें शर्मा अपनी पत्नी को धमकी देते भी नजर आ रहे हैं. उन्होंने अपनी पत्नी को धमकाया कि उनके निजी मामलों के बीच वो न आए.यह घटना घर में लगे सीसीटीवी में कैद हो गई है। अधिकारी के बेटे ने राज्य के गृहमंत्री, डीजीपी और मुख्य सचिव को वीडियो भेजकर पिता की शिकायत की है.

बताया जाता है कि पुरुषोत्तम शर्मा किसी और महिला के संपर्क में थे। यह खबर उनकी पत्नी को हो चुकी थी. एक दिन पत्नी ने उन्हें उस महिला के साथ रंगे हाथ पकड़ लिया. उन्होंने पति की इस करतूत का विरोध किया, लेकिन उसी दिन घर पहुंचे पुरुषोत्तम शर्मा ने पत्नी को बेरहमी से पीटा. मारपीट का यह वीडियो घर में लगे सीसीटीवी में कैद हो गया. पुरुषोत्तम शर्मा के बेटे पार्थ शर्मा भी आईआरएस ऑफिसर हैं. उन्हें घर में हुई इस घटना की जानकारी मिली तो उन्होंने वीडियो फुटेज के साथ अधिकारियों के पास पिता की शिकायत की है.

पत्नी से मारपीट का वीडियो वायरल होने के बाद आइपीएस अधिकारी पुरुषोत्तम शर्मा ने बयान दिया कि मैंने कोई क्राइम नहीं किया है, यह मेरे और पत्नी के बीच का यह पारिवारिक मामला है. अगर वह मुझसे इतनी नाराज हैं तो मेरे साथ क्यों रहती हैं. मेरे पैसे का इस्तेमाल क्यों करती हैं? मेरे पैसों पर विदेश यात्राएं क्यों करती हैं? यह मेरा पारिवारिक मामला है, इसे मैं खुद सुलझा लूंगा, मैं मेरी पत्नी से लगातार संपर्क में हूं, मैं पूरी कोशिश कर रहा हूं कि यह मामला सुलझा लिया जाए. यह सेल्फ डिफेंस के तहत झूमा-झटकी का मामला है. मैंने कोई मारपीट नहीं की है, सिर्फ धक्का-मुक्की और झूमा झटकी हुई है. वायरल वीडियो को लेकर कहा कि मेरी पत्नी और मेरा बेटा ही बता सकते हैं कि उन्होंने वीडियो क्यों वायरल किया.

आपको बता दे कि जब पुरुषोत्तम शर्मा साइबर सेल और एसटीएफ के स्पेशल डीजी थे, उस समय उनका नाम हनी ट्रैप में सामने आया था. हालांकि उनके नाम को इस मामले में घसीटे जाने को लेकर उन्होंने तत्कालीन डीजीपी वीके सिंह पर काफी गंभीर आरोप लगाए थे. उनका कहना था कि डीजीपी पुलिस अधिकारियों की छवि खराब करने का काम कर रहा है. उस समय उनका आरोप था कि विभाग द्वारा गाजियाबाद में लिए गए फ्लैट को हनी ट्रैप मामले से जोड़ने और उनके नाम को घसीटने की कोशिश डीजीपी वीके सिंह के द्वारा की जा रही है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More