योगी सरकार का बड़ा फैसलाः महिलाओं से छेड़छाड़ करने वालों के चौराहों पर पोस्टर लगेंगे

उत्तर प्रदेश में बढ़ते महिला अपराध को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त नाराजगी जताई है. मुख्यमंत्री ने अधिकारीयों को निर्देश दिया है कि सरेराह छेड़खानी करने वाले शोहदों और आदतन दुराचारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाये.

यूपी में अगर कोई भी महिलाओं से छेड़खानी करते पकड़ा जाता है कि तो उसके पोस्टर शहर में लगेंगे. योगी सरकार ने इसी तरह का कदम नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ हुई हिंसा के दौरान भी उठाया था. सरकार ने सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने वाले लोगों का पोस्टर सड़कों पर लगाया था. 

मिशन दुराचारी के तहत महिला पुलिसकर्मियों को जिम्मा दिया जाएगा. महिला पुलिस शहर के चौराहों पर नजर रखेगी. प्रदेश में महिला अपराध के कई मामले सामने आने के बाद सीएम योगी ने ये फैसला लिया है.

मुख्यमंत्री ने अधिकारीयों को निर्देश दिया है कि सरेराह छेड़खानी करने वाले शोहदों और आदतन दुराचारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. साथ ही सीएम योगी ने बड़ा फैसला लेते हुए ऐसे अपराधियों के पोस्टर सार्वजानिक सथलों पर लगाने के निर्देश दिए हैं.दरअसल इसके पीछे की मंशा ऐसे अपराधियों को समाज के सामने लाकर उन्हें शर्मिंदा करने की है.

CM ने क्या आदेश दिया

– महिलाओं से किसी भी तरह का अपराध करने वाले दुराचारियों को महिला पुलिसकर्मियों से ही दंडित कराएं.

– महिला पुलिसकर्मियों से ही इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई कराई जाए.

– ऐसे अपराधियों और दुराचारियों के मददगारों के भी नाम उजागर करें

– जिस तरह एंटी रोमियो स्क्वायड ने मनचलों और महिलाओं के साथ अपराध करने वालों की कमर तोड़ी, वैसे ही हर जनपद की पुलिस अभियान चलाती रहे. 

– कहीं भी महिलाओं के साथ कोई आपराधिक घटना हुई तो संबंधित बीट इंचार्ज, चौकी इंचार्ज, थाना प्रभारी और सीओ जिम्मेदार होंगे.

सीएम योगी ने कहा कि महिलाओं और बच्चियों के साथ रेप, छेड़खानी, यौन उत्पीड़न या शोषण करने वाले अपराधियों और दुराचारियों के मददगारों के भी नाम उजागर किए जाएं. ऐसा करने से उनके मददगारों में भी बदनामी का डर पैदा होगा.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More