हैवानियत की हदें पार: दिल्ली में पति ने 6 महीनों तक पत्नी को रखा जंजीरों से बांधकर, दिल्ली महिला आयोग ने कराया रिहा

दिल्ली महिला आयोग (DCW) ने त्रिलोकपुरी इलाके से एक महिला को उसके पति के चंगुल से रिहा करवाया. महिला को पिछले 6 महीनों से जंजीरों से बांधकर रखा गया था. आयोग की महिला पंचायत को एक ग्राउंड वालंटियर के जरिए जानकारी मिली कि त्रिलोकपुरी के एक घर में महिला को जंजीर से बांधकर रखा गया है.

स्वाति मालीवाल के नेतृत्व में आयोग की सदस्य फिरदौस खान और किरण नेगी पुलिस के साथ दिए गए पते पर पहुंचीं तो वहां दी गई जानकारी सही पाई गई. आयोग की टीम ने देखा कि घर के बरामदे में एक महिला जंजीर से बंधी जमीन पर बैठी हुई थी. 32 वर्षीय महिला ने बताया कि उसे उसके पति ने 6 महीने से चेन से बांधकर रखा था.

महिला की हालत बेहद खराब थी और उसके कपड़े तक फटे हुए थे. जहां उसे रखा गया था वहां कोई पंखा तक नहीं था और बहुत बदबू भी आ रही थी क्योंकि उसे बाथरूम तक नहीं जाने दिया जाता था.महिला ने बताया कि उसके विवाह को 11 साल हो गए हैं और उसके 3 बच्चे हैं. महिला को इतनी बुरी तरह से मारा-पीटा जाता रहा और टॉर्चर किया गया कि उसकी मानसिक हालत भी खराब हो गई. 

मिली जानकारी के अनुसार पीड़िता का पति घर के पास ही आटा की चक्की चलाता है. पूछताछ में यह भी पता चला कि महिला की मानसिक स्थिति पहले ठीक थी और पति द्वारा की गई प्रताड़ना के कारण उसके मानसिक अवस्था पर गहरा असर पड़ा.महिला के 3 बच्चे भी हैं जिनके साथ भी अक्सर मारपीट की जाती ह. जब टीम ने बच्चों से बात की तो उन्होंने बताया कि उनके पापा उनकी मां को बहुत मारते हैं और चैन से बांध के रखते हैं.

दिल्ली महिला आयोग ने तुरन्त ही महिला के पैर में बंधी बेड़ियां खोली और उसे वहां से रेस्क्यू करवाया. पीड़िता को घर से निकलवाकर आईएचबीएएस (IHBAS) में शिफ्ट करवाने की प्रक्रिया शुरू की गई है और मामले में एफआईआर दर्ज करवाई जा रही है. दिल्ली महिला आयोग महिला को बेहतर से बेहतर इलाज दिलवाने का प्रयास कर रहा है एवं मामले में कड़ी से कड़ी कार्यवाई सुनिश्चित करेगा.

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने कहा,हमें इस मामले की शिकायत अपने ग्राउंड पर काम कर रही महिला पंचायत के जरिए मिली. सूचना मिलते ही आयोग की सदस्य फिरदौस खान और किरण नेगी के साथ मैं दिए गए पते पर पहुंची तो महिला की हालत देखकर स्तब्ध रह गयी. महिला के पैर जंजीरो से बांधे गए थे एवं उसे बहुत ही बुरे हाल में रखा गया था. महिला के साथ इस प्रकार की प्रताड़ना की गई कि उसकी मानसिक स्तिथि भी बिगड़ गयी है. हमने महिला को रिहा करवाया और अब उसके इलाज और पुनर्वास के ऊपर काम कर रहे हैं, साथ ही गुनहगार पति पर भी एफआईआर करवाने जा रहे हैं. ऐसी अमानवीय घटनाएं देखकर दिल टूट जाता है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More