गांधी मैदान में सीएम नीतीश ने फहराया तिरंगा, नियोजित शिक्षकों के लिए शीघ्र नई सेवा शर्त नियमावली लागू करने की घोषणा की

देश आज 74वां स्‍वतंत्रता दिवस मना रहा है. इस मौके पर बिहार में भी मु्ख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सुबह नौ बजे पटना के गांधी मैदान में ध्वजारोहण किया. इसके पहले उन्‍होंने परेड की मिली-जुली टुकडि़यों की सलामी ली. झंडोत्‍तोलन के बाद अपने संबोधन में मुख्‍यमंत्री ने  मुख्‍यमंत्री ने नियोजित (Contract) शिक्षकों के लिए शीघ्र नई सेवा शर्त नियमावली लागू करने की भी घोषणा की.

उन्‍होंने कोरोना काल में किए जा रहे सरकार के कार्यों की जानकारी दी. यह भी कहा कि वादा के अनुसार सरकार हर घर में बिजली पहुंचा चुकी है. अब आगे हर खेत त‍क सिंचाई के लिए बिजली पहुंचाने का लक्ष्‍य है. मुख्‍यमंत्री ने कहा कि उनका लक्ष्य बिहार को देश के टॉप पांच राज्यों में शामिल करना है.

गांधी मैदान पहुंचने के पूर्व मुख्यमंत्री ने कारगिल चौक पर अमर जवान ज्योति पर माल्यार्पण का अमर शहीदों को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की.

कोरोना संक्रमण की वजह से इस बार गांधी मैदान में आयोजित स्वतंत्रता दिवस समारोह काफी सावधानी के साथ आयोजित किया जा रहा है. बगैर मास्क के किसी भी व्यक्ति को गांधी मैदान में प्रवेश नहीं मिल रहा है. इसके अतिरिक्त समारोह में आए लोगों के बैठने की व्यवस्था सुरक्षित दूरी पर की गयी है.

मुख्‍यमंत्री नीतीश के भाषण की मुख्य बातें

  • स्‍वतंत्रता दिवस के मुख्‍य समारोह को संबोधित करते हुए मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ले कहा कि कोरोना से निपटने के लिए सरकार शुरू से सचेत है तथा लगातार काम कर रही है. सभी लोग अपने ढंग से काम में में लगे हुए हैं. लॉकडाउन खत्म होने के बाद कोरोना का संक्रमण पूरे देश में बढ़ा. बिहार में इस संक्रमण से निबटने के उपायों की जानकारी देेत हुए मुख्‍यमंत्री ने कहा कि जांच की संख्या लगातार बढ़ाई जा रही है. साथ ही कोविड सेंटर, कोविड केयर सेंटर और डेडिकेटेड सेंटर की व्यवस्था की गई है. कोरोना की जंग में लगे चिकित्सा कर्मियों के लिए एक माह का समतुल्य वेतन देने का भी निर्णय लिया गया है.
  • उन्‍होंने कहा कि कोरोना का इलाज करने के दौरान निधन होने पर सेवानिवृति तिथि तक वेतन के बराबर पेंशन तथा अनुकंपा पर नौकरी देन का भी फैसला किया गया है. लॉकडाउन की चर्चा करते हुए मुख्‍यमंत्री ने कहा कि उस दौरान प्रवासियों के लिए काम किए गए. रोजगार सृजन के प्रयास किए गए.

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि बहुत लोग बहुत तरह की बातें करते हैं. पहले हमलोगों ने सोचा था गर्मी आएगी कोरोना खत्म हो जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. कोरोना के चलते बहुत सी चीजें अव्यवस्थित हुई हैं. कोरोना को लेकर लोगों में भय नहीं सजगता होनी चाहिए. सरकार काम कर रही है.

  • बिहार में बाढ़ की चर्चा करते हुए मुख्‍यमंत्री ने कहा कि राज्‍य के 16 जिलों के 130 प्रखंडों की 1303 पंचायतों की 81 लाख से अधिक आबादी बाढ़ से प्रभावित है. राज्य सरकार राहत कार्य चला रही है. राहत शिविरों में कोरोना जांच की भी व्यवस्था की गई है. सरकार पीड़ित परिवारों को भोजन व कपड़ों के लिए छह हजार रूपये दे रही है. यह रकम पैसे सीधे बैंक खाते में जा रही है. अभी तक 7.79 लाख परिवारों के खातों में 467 करोड़ रुपये डाले गए हैं. शेष को भी रकम सप्ताह से 10 दिन में मिल जाएगी.
  • मुख्‍यमंत्री ने बिहार में क्राइम, क्रप्शन और कम्युनिलिज्म पर जीरो टालरेंस की नीति को दोहराया. लोगों ने विधि व्यवस्था और सामाजिक सौहार्द काम किया है. उन्‍होंने अपराध को नियंत्रण में बताया. कहा कि राष्ट्रीय औसत को देखें तो अपराध के मामले में बिहार 23वें स्थान पर है. भूमि विवाद निपटारे के लिए सर्किल ऑफिसर और थाना प्रभारी को हर सप्ताह थाना में एक मीटिंग करना अनिवार्य है. डीएम भी हर महीने बैठक करेंगे.
  • सरकार की उपलब्धियां गिनाने हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़कों व पुलों का निर्माण तथा चौड़ीकरण हो रहा है. अब राज्य के किसी कोने से पांच घंटे में पटना पहुंचना संभव है. राज्य सरकार के मद से पथ निर्माण में अब तक 54461 करोड़ रुपये की राशि खर्च की गई है. 2005 के बाद बिहार में 18 मेगा पुल का निर्माण किया गया.ग्रामीण सड़कों के लिए 34287 करोड़ खर्च किए गए हैं.
  • मुख्‍यमंत्री ने कहा कि उन्‍होंने गांधी मैदान में ही 2012 में कहा था कि अगर बिजली में सुधार नहीं हुआ तो वोट मांगने नहीं जाऊंगा. अब हर घर तक बिजली पहुंचा दी गई है.अक्टूबर 2018 में ही या काम पूरा हो गया.
  • अब किसानों के खेत तक सरकार बिजली पहुंचा रही है. आगे हर खेत तक सिंचाई के लिए पानी पहुंचा देंगे.
  • बिजली के क्षेत्र बहुत कार्य किए गए हैं. सभी जर्जर तार भी बदल दिए गए हैं.
  • कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी सरकार काम कर रही है. बिहार में टीकाकरण का हाल काफी बुरा था. पहले यह केवल 18 फीसद था, जिसे बढ़कर 86 फीसद किया जा चुका है.
  • मुख्‍यमंत्री ने बताया कि आगे पटना म्यूजियम का भी विस्तार किया जाएगा. बिहार म्यूजियम से इससे भूमिगत जुड़ेगा। उनका लक्ष्‍य बिहार को देश के टॉप पांच राज्‍यों में शामिल करना है.
  • मुख्‍यमंत्री ने नियोजित शिक्षकों के लिए शीघ्र नई सेवा शर्त नियमावली लागू करने की घोषणा की. कहा कि उन्‍हें ईपीएफ का लाभ भी दिया जाएगा. जल्द ही सेवा शर्त नियमावली की विधिवत घोषणा की जाएगी. उन्‍होंने 35916 शिक्षकों के पद सृजित किए जाने की भी जानकारी दी. कहा कि कॉलेज शिक्षकों की नियुक्ति के लिए प्रकिया शुरू की जाएगी.
You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More