पटना AIIMS में आज से शुरू होगा कोरोना वैक्सीन का ट्रायल

एम्स पटना में कोरोना वैक्सीन का ट्रायल मंगलवार यानि आज से शुरू होगा. इसके लिए सभी जरूरी तैयारी पूरी कर ली गई है. हालांकि इसके लिए कितने मरीज और किस प्रकार के मरीजों का रजिस्ट्रेशन किया गया है, फिलहाल एम्स प्रशासन इसका खुलासा नहीं कर रहा है.

आईसीएमआर ने पटना एम्स समेत देशभर के 13 विशिष्ट अस्पतालों व चिकित्सकों का कोरोना वैक्सीन ट्रायल के लिए चयन किया है. इसमें सभी चयनित संस्थानों को सात जुलाई तक जरूरी प्रक्रिया पूरी करने के निर्देश दिये गए थे.

इसी क्रम में मंगलवार से एम्स में ट्रायल की प्रक्रिया शुरू होगी. एम्स पटना के निदेशक डॉ. पीके सिंह ने कहा कि वैक्सीन ट्रायल मंगलवार से शुरू होगी. इसके लिए अधीक्षक संग बैठक कर जरूरी तैयारी की गई है. हालांकि उन्होंने यह खुलासा नहीं किया कि कितने और किस प्रकार के मरीजों का चयन ट्रायल के लिए किया गया है.

हैदराबाद की भारत बायोटेक और आईसीएमआर ने संयुक्त रूप से भारत में कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन का निर्माण किया है. वैक्सीन कोरोना पीड़ितों पर कितना असर कर रहा है, इसका क्लीनिकल ट्रायल किया जाना है. इसके लिए देशभर में कोरोना संक्रमितों के इलाज से जुड़े अस्पतालों और चिकित्सकों का चयन वैक्सीन के ट्रायल के लिए किया गया है.

इस वैक्सीन के लिए वायरस के स्टेन को स्वदेशी तकनीक से विकसित करने में आईसीएमआर (इं‌डियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) को सफलता मिली. यह वायरस शरीर के अंदर कोरोना से लड़ने के लिए एंटीबॉडी विकसित करेगा. इस क्षमता को विकसित करने वाला आईसीएमआर विश्व के चुनिंदा पांच संस्थानों में से एक है.

आईसीएमआर ने भारत बायोटेक के सहयोग से कोरोना की वैक्सीन बनायी है. शासन की तरफ से वैक्सीन के ट्रॉयल की मंजूरी मिल गई है. इसके बाद भारत बायोटेक ने ट्रॉयल के लिए डॉक्टरों की टीम का चयन कर लिया है. इसमें दिल्ली, आंध्र प्रदेश, हरियाणा, कर्नाटक , तमिलनाडु, बिहार, तेलंगाना, ओडिसा, गोवा के अलावा सूबे में कानपुर व गोरखपुर के डॉक्टर शामिल है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More