हिमाचल सरकार ने पर्यटकों के लिए खोले बॉर्डर, 72 घंटे पहले की कोविड-19 की रिपोर्ट लाना भी होगा जरूरी

100 दिन बाद हिमाचल एक बार फिर पर्यटकों के लिए खुल गया है. राज्य सरकार ने देवभूमि घूमने आने वालों के लिए बॉर्डर खोल दिए हैं. शुक्रवार को राज्य आपदा प्रबंधन काेष्ठ ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं. अब पर्यटन विभाग टूरिस्टाें के लिए शीघ्र गाइडलइान जारी करेगा. राज्य सरकार के इस फैसले से पर्यटन काराेबारियाें काे बड़ी राहत मिली है. अनलाॅक-टू के बीच हाेटल काराेबारियों ने सरकार से इस संबंध में लिए गाइडलाइन जारी करने की मांग की थी. राज्य में कुछ शर्तों के साथ ही टूरिस्ट घूमने आ सकेंगे. इसमें 5 दिन की बुकिंग अनिवार्य होगी और 72 घंटे पहले की कोविड-19 की रिपोर्ट लाना भी जरूरी होगा.

अब डीसी से पास लेने के लिए मंजूरी नहीं लेनी होगा. वहीं, सैलानियों को सूबे में सशर्त एंट्री मिलेगी. होटल में पांच दिन की बुकिंग और कोरोना की 72 घंटे पहले की निगेटिव रिपोर्ट वाले सैलानी आ सकेंगे. ये टेस्ट रिपाेर्ट आईसीएमआर से मान्यता प्राप्त लैबोरेटरी से हाेनी चाहिए. बॉर्डर पर प्रदेश में प्रवेश करने से पहले रजिस्ट्रेशन फार्म पर लगे क्यूआर कोड को स्कैन किया जाएगा.

पर्यटन गतिविधियां शुरू करने के लिए भी राज्य आपदा प्रबंधन सेल ने गाइडलाइन जारी कर दी है. होटलों की एडवांस बुकिंग करवाने वाले सैलानी क्वारंटीन नहीं होंगे. सरकार का मानना है कि इसस्रे प्रदेश में ठप पर्यटन गतिविधियों को पटरी पर लौटने में मदद मिलेगी. हालांकि, इससे कोरोना के मामले बढ़ने का खतरा भी है. सरकार ने केंद्र से इसका विरोध भी जताया था. बता दें कि प्रदेश के होटल और ढाबों में 60 फीसदी आक्यूपेंसी आने वाले दिनों में जारी रहेगी.

हिमाचल के मुख्य सचिव ने केंद्रीय गृह सचिव को लिखा था कि हिमाचल में बाहरी लोगों के आने पर बंदिशें लगाने की शक्ति राज्य सरकार को दी जाए,  पर केंद्र ने इससे इंकार कर दिया. अब दूसरे राज्यों से एंट्री के बाद सूबे में संक्रमण का खतरा बढ़ेगा और इससे चिंतित है. हिमाचल में अब तक कोरोना वायरस के 1033 केस रिपोर्ट हुए हैं. इनमें 333 एक्टिव केस और 671 मरीज ठीक हुए हैं.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More