केरल में फिर आया जानवर के साथ क्रूरता का मामला, कुत्ते के मुंह पर बांध दिया टेप

तिरुवनंतपुरम : कुछ दिन पहले केरल में विस्फोटक से भरा फल खाने से एक गर्भवती हथिनी की मौत हो गई थी. इस खबर ने पूरी दुनिया के लोगों को विचलित कर दिया था. इस घटना के कुछ दिन बाद ही जानवर के साथ इंसानों द्वारा की गई ऐसी ही क्रूरता की खबर सामने आई है. यह घटना भी केरल की ही है.

केरल में अब एक कुत्ते के साथ बर्बरता की घटना सामने आई है जहां कुत्ते के मुंह को कुछ शरारती तत्वों ने टेप से सील कर दिया. तीन साल के इस कुत्ते को पीपुल फॉर एनिमल वेल्फेयर सर्विसेस (PAWS) के सदस्यों ने बचाया और उसे अस्पताल में भर्ती कराया.

बर्बरता से बांधा गया था टेप


ये कुत्ता त्रिसूर जिले के ओल्लुर इलाके में मिला था जो कि पानी पीने और खाना खाने में पूरी तरह से असमर्थ था. टेप को कसकर कई बार मुंह के इर्द-गिर्द घुमाकर बांधा गया था. जो कि कैनाइन की नाक के आसपास की हड्डियों को दिखाने करने के लिए पर्याप्त था. जब बचावकर्मी कुत्ते के पास गए तो उसने उनका साथ दिया और इधर-उधर नहीं भागा जिससे ये साफ दिख रहा था कि वह इस टेप को हटवाने के लिए कितना आतुर था. जब बचावकर्मियों से टेप हटाया तो कुत्ते की स्किन का कुछ हिस्सा भी निकल गया.

मुंह खुलते ही दो लीटर पानी पी गया कुत्ता

कुत्ते की गर्दन में पट्टा बंधा हुआ था जिससे लगा कि ये शायद किसी का पालतू है. जैसे ही कुत्ते के मुंह से टेप निकाला गया वह तुरंत करीब दो लीटर पानी पी गया. अब एक परिवार ने इस कुत्ते को गोद लेने की इच्छा जताई है.

हथिनी के साथ बर्बरता की खबर आई थी सामने


बता दें इससे पहले 27 मई को केरल के ही पलक्कड़ में शरारती तत्वों ने एक फल में विस्फोटक भरकर गर्भवती हथिनी को खिला दिया था जिसके बाद उसके निचले जबड़े में चोटें आईं और वह वेल्लियर नदी में तीन दिन खड़ी रही जहां उसने 27 मई को दम तोड़ दिया. केरल में गर्भवती हथिनी की मौत के बाद पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सामने आया किसंभवत: पटाखों के विस्फोट के कारण उसके मुंह के अंदर गहरे घाव हो गये थे और इस कारण वह लगभग दो सप्ताह तक कुछ खा नहीं सकी और एक नदी में गिरकर डूब गई.

हथिनी की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के अनुसार ऐसी आशंका है कि मुंह में पटाखे फटने से उसे गहरे घाव हो गए और उस जगह पर सेप्सिस हो गया.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More