1 मीटर की दूरी से संक्रमण का खतरा 82% तक होगा कम, 16 देशों में की गई 172 स्टडीज

नई दिल्ली : दुनिया में फैले कोरोना वायरस संक्रमण ने अधिकतर देशों को अपनी चपेट में ले लिया है. अभी तक दुनिया में 64,74,000 से ज्यादा लोग संक्रमण का शिकार हो चुके हैं. संक्रमण को रोकने के लिए सबसे जरूरी सोशल डिस्टेंसिंग है, जिससे इसके प्रभाव को फ़ैलने से कम किया जा सकता है. लैंसेट पत्रिका में छपी एक खबर के मुताबिक़, 16 देशों में की गई 172 स्टडीज के एनालिसिस के अनुसार 1 मीटर की दूरी कोरोना के खतरे को 82% तक कम कर सकती है. डब्ल्यूएचओ (WHO) ने भी गाइडलाइन जारी कर कोरोना के खतरे से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग को सबसे जरूरी बताया था.

छींकने या खांसने से संक्रमण की बूंदें जा सकती है 8 मीटर तक


इस स्टडी के अनुसार जब कोई संक्रमित व्यक्ति छींकता या खांसता है तो संक्रमण की बूंदें करीब 8 मीटर तक जा सकती हैं. इस संक्रमण से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही मास्क पहना जरूरी है. यदि व्यक्ति 1 मीटर से ज्यादा दूरी बना कर रखता तो संक्रमण फ़ैलाने का खतरा 3 फीसदी तक कम हो सकता है.

8 देशों में 1 लाख से ज्यादा लोग स्वस्थ हो चुके हैं

दुनिया में ऐसे आठ देश हैं, जहां एक लाख से ज्यादा लोग कोरोना पॉजिटिव से निगेटिव हो चुके हैं. मतलब संक्रमण को हराकर स्वस्थ हो चुके हैं. इन देशों में भारत के अलावा अमेरिका, ब्राजील, रूस, इटली, जर्मनी, तुर्की और ईरान शामिल हैं. इन आठ में से चार देशों में रिकवरी रेट 50% से ज्यादा है. ये चार देश जर्मनी, इटली, तुर्की और ईरान हैं. जर्मनी का रिकवरी रेट 90%, तुर्की का 78% और ईरान का 77% है. अमेरिका का रिकवरी रेट 34% ब्राजील का 45% और रूस का 45% है.

दुनिया में कोरोना 3,81,700 से ज्यादा की हुई मौत


मंगलवार को भी दुनिया भर में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी बनी रही और कुल 1,10,000 से ज्यादा नए केस सामने आए हैं. इसके बाद कुल मामलों की संख्या बढ़कर अब 64,74,000 से भी ज्यादा हो गयी है. बीते 24 घंटे में संक्रमण से दुनिया भर में 4500 से ज्यादा मौतें हुईं हैं और कुल मौतों का आंकड़ा बढ़कर अब 3,81,700 से भी ज्यादा हो गया है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More