भारत-चीन के बीच शांत हुआ सीमा विवाद, गलवान और चुसूल में दोनों देश की सेनाएं पीछे हटीं

सीमा पर जारी भारत और चीन के बीच तनाव थमता दिख रहा है. खबर आ रही है कि दोनों देश की सेनाएं लद्दाख, गलवान और चुसूल में पीछे हट गई हैं.

आपको बता दें कि पांच मई के बाद से दोनों देशों के सैनिक एलएसी पर चार जगहों पर एक-दूसरे के आमने-सामने थी. दोनों पक्षों ने इन जगहों पर करीब एक हजार सैनिक तैनात किए. बाद में अतिरिक्त कुमुक भी भेजी गई थी.

ताजा विवाद भारत द्वारा पूर्वी लद्दाख के पांगगोंग त्सो (झील) इलाके में एक खास सड़क और गलवान घाटी में डारबुक-शायोक-दौलत बेग ओल्डी सड़क को जोड़ने वाली एक सड़क को बनाने के प्रति चीन के विरोध से पैदा हुआ है.

लद्दाख और सिक्किम क्षेत्र में भारत और चीन की सेनाओं के बीच कई सप्ताह से लगातार गतिरोध बना हुआ है. पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग त्सो झील क्षेत्र में गत पांच मई को दोनों देशों के सैनिक लोहे की छड़ों और लाठी-डंडे लेकर आपस में भिड़ गए थे. इस दौरान दोनों पक्षों के बीच पथराव भी हुआ था. इस घटना में दोनों देशों के कई सैनिक घायल हुए थे. इसके बाद, सिक्किम सेक्टर में नाकू ला दर्रे के पास भारत और चीन के लगभग 150 सैनिक आपस में भिड़ गए जिसमें दोनों पक्षों के कम से कम 10 सैनिक घायल हुए थे.

दोनों देशों के सैनिकों के बीच 2017 में डोकलाम में 73 दिन तक गतिरोध चला था. भारत और चीन के बीच 3,488 किलोमीटर लंबी एलएसी पर विवाद है. चीन अरुणाचल प्रदेश पर दावा करता है और इसे दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा बताता है. वहीं, भारत इसे अपना अभिन्न अंग करार देता है. दोनों पक्ष कहते रहे हैं कि सीमा विवाद के अंतिम समाधान तक सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति एवं स्थिरता कायम रखना जरूरी है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More