बिहार में आंधी-बारिश के साथ उमस से राहत, पटना में 70 किमी की रफ्तार से चली आंधी, जगह-जगह भारी नुकसान

तेज आंधी-पानी से राजधानी का जनजीवन शनिवार शाम अस्त व्यस्त हो गया. 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आधे घंटे तक आंधी चलने से कई जगह पेड़ और होर्डिंग गिर गए. इससे शहर और देहात के कई इलाकों में देर रात तक बिजली ठप रही. वहीं मुन्नाचक में जर्जर मकान को प्रशासन ने खाली करा दिया. इसके आसपास तीन छोटे मकानों को भी खाली कराया गया है. 

चक्रवात के कारण राज्य में आंधी के साथ बारिश

पटना मौसम विज्ञान केंद्र के संजय कुमार के अनुसार वर्तमान में पूर्वी उत्तर प्रदेश में चक्रवात की स्थिति बनी हुई है. इस कारण राज्य के सीमावर्ती इलाके में आंधी के साथ बारिश हो रही है. शनिवार को पटना, भोजपुर, कैमूर, रोहतास, पूर्वी चंपारण, नवादा, जहानाबाद, अरवल, जमुई एवं बांका आदि जिलों में आंधी और बारिश हुई. रविवार को भी राजधानी समेत गया, जहानाबाद में बादल छाए हुए हैं. बारिश होने की भी उम्मीद है.

मुन्नाचक चौराहा के पास छह मंजिले भवन का छज्जा और बालकॉनी आंधी से गिर गए. अपार्टमेंट कैंपस में छज्जा गिरने से लोग दहशत में आ गए. सूचना पर स्थानीय पार्षद माला सिन्हा और पुलिस-प्रशासन की टीम पहुंची. देर रात लोगों को समझा-बुझाकर मकान खाली करा लिया गया. रात में उन्हें मलाही पकड़ी रैनबसेरा में ठहराया गया. कुछ अपने रिश्तेदार के यहां गए हैं. मकान में मालिक और किराएदार के पांच परिवार के अलावा छात्र रहते हैं. कुल 80 लोग विस्थापित हुए हैं.

वहीं, तेज आंधी से बेली रोड पर हाईकोर्ट मोड़ के पास, पाटलिपुत्रा थाने में वन विभाग के पास पेड़ गिरने से देर रात तक बिजली गुल रही. बिजली  के बड़े-छोटे कई फीडर ट्रिप कर गए. कई फीडर को एहतियातन बंद कर दिया गया. बेली रोड, बोर्ड कॉलोनी, कंकड़बाग, हनुमाननगर, राजेंद्रनगर, लोहानीपुर, फुलवारी, अशोक राजपथ, बांकीपुर, गांधी मैदान सहित तमाम इलाकों में घंटेभर बिजली बाधित रही.

कई फीडर ब्रेकडाउन


कई जगह पेड़ और बैनर-पोस्टर  गिरने से बिजली के 11 केवी के कई फीडर ब्रेकडाउन कर गए। कई मोहल्लों में तीन घंटे तक बिजली बाधित रही. पेसू के जीएम दिलीप कुमार सिंह का दावा है कि बारी बारी से सभी फीडरों से बिजली की सप्लाई घंटेभर में बहाल कर दी गई. 

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More