कांग्रेस का SpeakupIndia अभियान, सोनिया गांधी ने कहा- गरीबों को 6 महीने तक केंद्र दे 7,500 रुपये

नई दिल्ली : देश में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुआई में पार्टी ने #SpeakupIndia अभियान शुरू किया है. इस अभियान की शुरुआत करते हुए कांग्रेस नेता सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार से मांग की है कि गरीबों को राहत दी जाए. सोनिया ने कहा कि केंद्र सरकार गरीबों के लिए 7500 रुपये प्रतिमाह अगले 6 महीने तक दे.

अभियान से जुड़े एक संबोधन में सोनिया ने केंद्र की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘खजाने का ताला खोलिए और गरीबों को राहत दीजिए.’ उन्होंने कहा कि गरीबों को 7500 रुपये प्रतिमाह अगले 6 महीने तक दिया जाए जिसमें से 10,000 रुपये तत्काल उनके खाते में भेजे जाएं.

सरकार मजदूरों का दर्द सुनने को तैयार नहीं- सोनिया


सोनिया ने कहा कि केंद्र सरकार मनरेगा के तहत हर श्रमिक के लिए कम से कम 200 दिन काम सुनिश्चित करे. करीब 6 मिनट के संबोधन में सोनिया ने कहा कि देश बीते दो महीने से कोरोना महामारी की चुनौती और लॉकडाउन से जूझ रहा है. लाखों मजदूर, नंगे-पांव, भूखे, सैकड़ों किलोमीटर पैदल जाने को मजबूर हो गए. सबने उनका दर्द समझा लेकिन सरकार उनकी सुनने को तैयार नहीं है.

केंद्र सरकार के समक्ष गरीबों, प्रवासियों, छोटे व्यवसायियों और मध्यम वर्ग के लोगों की आवाज उठाने में मदद करने के लिए कांग्रेस ने 28 मई को एक ‘स्पीकअप’ अभियान शुरू की शरुआत की. पार्टी का दावा है कि 50 लाख से ज्यादा कार्यकर्ता ऑनलाइन अपनी बात रखेंगे और सरकार पर मजदूरों, गरीबों की मदद के लिए दबाव बनाएंगे.

छोटे-लघु उद्योगों को ऋण देने के बजाए आर्थिक मदद दीजिए- सोनिया


सोनिया ने कहा कि पहले दिन से ही कांग्रेस के साथियों, अर्थशास्त्रियों, समाजशास्त्रियों और अग्रणी व्यक्तियों ने कहा कि यह समय आगे बढ़कर सबकी मदद करने का है. ना जाने क्यों सरकार यह बात समझने और मदद करने से इनकार कर रही है. सोनिया ने कहा कि भारत की आवाज बुलंद करने का यह सामाजिक अभियान चलाना है.

सोनिया ने कहा कि मजदूरों की सुरक्षित और मुफ्त यात्रा का इंतजाम कर उन्हें सुरक्षित घर पहुंचाएं और भोजन उपलब्ध कराया जाए. छोटे-लघु उद्योगों को ऋण देने के बजाए आर्थिक मदद दीजिए ताकि करोड़ों नौकरियां बचे और देश की तरक्की हो.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More