बिहार में 1674 कोरोना संक्रमित; जांच रिपोर्ट आने से पहले ही क्वारैंटाइन सेंटर में प्रवासी ने लगाई फांसी

पटना : राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1674 हो गई है. गुरुवार को 11 नए मरीज मिले. कोरोना से 9 मरीजों की मौत हुई है. 571 लोग स्वस्थ होकर हॉस्पिटल से घर जा चुके हैं. राज्य में जैसे-जैसे दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूर आते जा रहे हैं, वैसे ही कोरोना के मरीजों के आंकड़े में बढ़ोतरी हो रही है. यह सिलसिला पिछले कई दिनों से जारी है. दस दिन में 932 नए मरीज मिले हैं. बुधवार को 144 संदिग्ध लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई. 3 मई के बाद आने वाले प्रवासियों में से 788 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं.

बिहार को मिली 24 ट्रेनें, 25 मई से पटना से 18 फ्लाइटें
1 जून से 24 ट्रेनें बिहार के प्रमुख स्टेशनों से ओरिजनेट व टर्मिनेट होंगी, जबकि 18 से अधिक ट्रेनें बिहार होकर गुजरेंगी. बिहार की ट्रेनों में संपूर्ण क्रांति, श्रमजीवी, संघमित्रा, दानापुर पुणे, वैशाली, सप्त क्रांति समेत पटना से रांची व हावड़ा के बीच चलने वाली जनशताब्दी भी शामिल हैं. पूरी तरह आरक्षित इन ट्रेनों में एसी और नॉन एसी दोनों श्रेणियां होंगी. जरनल के लिए भी आरक्षण करवाना होगा. ट्रेनों का किराया सामान्य होगा.

डीजीसीए के अनुसार हर रूट पर लॉकडाउन से पहले जितनी उड़ानें संचालित होती थीं, उसकी करीब एक तिहाई उड़ानें ही अभी चलेंगी. पटना एयरपोर्ट से इंडिगो की 24, गो एयर की 12, स्पाइस की 11, एयर इंडिया की 6 और विस्तार की एक फ्लाइट यानी कुल 54 विमानों का ऑपरेशन 24 मार्च की रात 11 बजे तक हो रहा था. 25 मई से करीब 18 विमानों को पटना से दिल्ली-मुंबई-बेंगलुरु-हैदराबाद के लिए उड़ान भरने की अनुमति मिल सकती है. 

क्वारैंटाइन सेंटरों में अव्यवस्था फैली तो डीएम और एसपी जिम्मेदार

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि प्रखण्ड क्वारैंटाइन केन्द्रों पर पूरी व्यवस्था बनी रहनी चाहिए. कोई स्वार्थी या असामाजिक तत्व वहां अव्यवस्था फैलाने की कोशिश ना करें, इसकी पूरी पुख्ता व्यवस्था होनी चाहिए. यह हरेक जिले के डीएम और एसपी की जिम्मेदारी होगी. दोनों अफसर अपने यहां के क्वारैंटाइन सेंटर की नियमित मॉनिटरिंग करते रहें.

वैशाली: हाजीपुर के क्वारैंटाइन सेंटर में प्रवासी ने लगाई फांसी
हाजीपुर सदर थाना क्षेत्र के दिग्घी स्थित आंबेडकर बालिका छात्रावास आवासन केंद्र पर क्वारैंटाइन किए गए युवक ने बुधवार शाम फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. युवक को सर्दी-खांसी थी. उसका ब्लड सैंपल जांच के लिए भेजा गया था. सैंपल लिए जाने के बाद से ही वह डिप्रेशन में था. जांच रिपोर्ट आने से पहले ही उसने आत्महत्या कर ली. मृत युवक पटेढ़ी बेलसर क्षेत्र के जारंग रामपुर निवासी योगेन्द्र उर्फ जोगी महतो का पुत्र राजेश महतो था. 18 मई को पटेढ़ी बेलसर आया था. दिल्ली से यूपी के बलिया तक ट्रेन से आया. वहां से कोई गाड़ी न मिलने पर पैदल चलकर गोरौल आया. घर जाने के बजाए सीधे पीएचसी बेलसर पहुंचा. स्क्रीनिंग के दौरान उसने सीने में दर्द की शिकायत की थी. पीएचसी के डॉक्टर ने हाजीपुर भेज दिया.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More