वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, लंबी चर्चा के बाद किया गया पैकेज पर फैसला

20 लाख करोड़ के राहत पैकेज के रोडमैप को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रही हैं. प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए वह बता रही हैं कि 20 लाख करोड़ का इस्तेमाल किन-किन क्षेत्रों में की जाएगी और इन्हें कितनी राशि दी जाएगी. इस राशि का इस्तेमाल कैसे किया जाएगा. बता दें कोरोना संकट से बेपटरी हुई देश की अर्थव्यव्स्था को पटरी पर लाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की थी.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की प्रेस कॉन्फ्रेंस में 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का लेखाजोखा दे रही हैं. उन्होंने कहा कि कई मंत्रालयों की लंबी चर्चा के बाद पैकेज पर फैसला हुआ है. इस पैकेज के सहारे देश को आत्म निर्भर बनाना है. इसलिए इसे आत्मनिर्भर भारत अभियान कहा जा रहा है। हम जो भी योजनाओं का ऐलान करेंगे वो सीधे लोगों तक पहुंचेगे.  गरीबों के खाते में सीधे पैसा पहुंच रहा है.

वित्त मंत्री की स्पीच

  • निर्मला सीतारमण ने कहा- पैकेज का ऐलान आत्मनिर्भर भारत के विजन को ध्यान में रखते हुए किया गया है. इसके पांच स्तंभ इकोनॉमी, इन्फ्रास्ट्रक्चर, सिस्टम, डेमोग्राफी और डिमांड हैं.
  • “आत्मनिर्भर भारत का मतलब यह कतई नहीं है कि हम पृथकतावादी सोच रखते हैं। हमरा फोकस लोकल ब्रांड को ग्लोबल बनाना है.’
  • “आत्मनिर्भर भारत के लिए कई कदम उठाए गए। किसानों, कामगारों, मजदूरों के अकाउंट में सीधे पैसे डाले गए, जो एक तरह से अपने में क्रांति थी.’
  • “पीएम किसान योजना, उज्ज्वला योजना, स्वच्छ भारत अभियान, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनाओं के जरिए सीधे लोगों के बैंक खातों में रकम भेजी गई है. इन योजनाओं का फायदा किसानों को पहुंचा. जीएसटी से लघु उद्योगों को मध्यम उद्योगों का फायदा मिला.’

वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि पीएम ने सबसे पहला कदम देश के गरीबों को लेकर उठाया. एक लाख 70 हजार करोड़ रुपये का पैकेज दिया गया. वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि पीएम ने सबसे पहला कदम देश के गरीबों को लेकर उठाया. एक लाख 70 हजार करोड़ रुपये का पैकेज दिया गया. आत्मनिर्भर भारत बनाने का उसने देश के लोगों में नई ऊर्जा भर दी है. लोग संकट में अवसर देख रहे हैं.

बजट के फौरन बाद कोरोना आ गया. बजट सेशन के बाद हमने गरीब कल्याण योजना के तहत 41 करोड़ खातों में पैसा पहुंचा था. जिनके पास राशन कार्ड नहीं था उन्हें भी राशन दिया गया. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा मोदी सरकार लोगों से बातचीत और संवेदनशीलता में भरोसा रखती है और बजट के बाद तुरंत कोरोना का प्रकोप आ गया. 

12 लाख करोड़ रुपए के पैकेज का मिलेगा ब्रेकअप

बता दें कि 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज का करीबन 8 लाख करोड़ रुपए पहले ही आरबीआई और सरकार ने जारी कर दिया था. अब 12 लाख करोड़ रुपए के पैकेज का ब्रेकअप दिया जाएगा. इसमें से 50,000 करोड़ रुपए टैक्स के लिए घोषित किए जा सकते हैं. जबकि पावर सेक्टर को करीबन एक लाख करोड़ रुपए जारी हो सकते हैं. इसी तरह देश के गरीबों के लिए डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के जरिए एक बड़ी राशि का अलोकेशन हो सकता है. इसमें एनबीएफसी और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों को करीबन एक लाख करोड़ रुपए का अलोकेशन हो सकता है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More