बिहार में बाघ ने किया लोगों पर हमला, 4 राहगीर घायल; भागते समय नदी में डूबने से 1 की मौत

बगहा : बिहार के बगहा में बाघ ने लोगों पर हमला कर दिया. इसमें 4 लोग घायल हो गए. डर कर भागे एक चरवाहे की नदी में डूबने से मौत हो गई. मंगलवार को मरती कटहरवा गांव से दक्षिण बांसवारी में छांव लेने के लिए पहुंचे लोगों पर पहले से घात लगाए एक बाघ ने हमला कर दिया. इसमें गांव के राजेंद्र मुसहर (25), दिलीप कुमार (10), बाबूलाल राय (50) व काशी राय (48) गंभीर रूप से जख्मी हो गए. वहीं बाघ के डर से भागते समय नदी में डूबने से एक चरवाहे की मौत हो गई. आनन-फानन में सभी को स्थानीय पीएचसी में लाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सक डॉ. विकास कुमार ने  राजेन्द्र मुसहर को सदर अस्पताल बेतिया के लिए रेफर कर दिया.

बताया जाता है कि गर्मी अधिक होने के कारण अपने घरों से निकलकर राजेंद्र व दिलीप बांसवारी के छांव में पहुंचे. जहां पहले से घात लगाकर बैठे बाघ ने एकाएक दोनों पर हमला कर दिया. इधर इनकी चीख पुकार सुनकर बगल के खेत में मौजूद काशी राय व बाबूलाल राय इनको बचाने दौड़े. इन दोनों पर भी बाघ ने हमला कर घायल कर दिया. बाघ की बात तब तक पूरे गांव में फैल गई. इसके बाद ग्रामीण हो-हल्ला करते हुए स्थल पर पहुंचे. तब तक बाघ गन्ने के खेत की तरफ भाग खड़ा हुआ. इस बात की सूचना ग्रामीणों ने वन विभाग को दी है. इसी बीच कुम्हरिया निवासी चरवाहा मेरो लाल साह मसान नदी के समीप में गाय चरा रहा था. शोर सुनकर वह भागा. अनियंत्रित होकर वह मसान नदी में गिर गया, जिससे डूबने से उसकी मौत हो गई.

वन प्रमंडल एक के डीएफओ अंबरीश मल्ल ने बताया कि वन कर्मियों की टीम को गांव में भेजा गया. जांच पड़ताल की जा रही है. इमरती कटहरवा के मुखिया जितेंद्र बहादुर सिंह ने बताया कि बाघ अभी भी गांव के बगीचे में ही है. इससे ग्रामीणों में अभी भी दहशत का माहौल है. गांव से बगीचे की दूरी लगभग 400 मीटर है. इससे लोग अपने घरों से नहीं निकल रहे है. घटनास्थल पर रघिया से एक रेस्कयू दल पहुंच गया है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More