पहली से बारहवीं कक्षा तक की किताबें वेबसाइट पर उपलब्ध, छात्रों को मिलेगा लाभ

पटना : बिहार के सरकारी स्कूलों में पहली से लेकर बारहवीं कक्षा के ढाई करोड़ विद्यार्थियों को राहत देने वाली खबर है. सरकार ने इन सभी कक्षाओं की किताबों को वेबसाइट पर उपलब्ध करा दिया है. ये किताबें (चैप्टरवाइज) बिहार राज्य पाठ्य पुस्तक प्रकाशन निगम की वेबसाइट (बीएसटीबीपीसी डॉट जीओवी डाट इन) पर है जिससे विद्यार्थी अपने पाठ्यक्रम से संबंधित किताबों को एक साथ या चैप्टर को डाउनलोड कर पढ़ाई कर सकेंगे.

अभिभावकों को मिली राहत

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन के निर्देश पर सभी 72 हजार प्रारंभिक विद्यालयों एवं 6500 माध्यमिक तथा उच्च माध्यमिक विद्यालयों में पढऩे वाले विद्यार्थियों को वेबसाइट पर किताबें मुहैया होने से अभिभावकों ने भी राहत महसूस की है. प्राथमिक शिक्षा निदेशक और बिहार राज्य पाठ्य पुस्तक प्रकाशन निगम के प्रबंध निदेशक डॉ.रणजीत कुमार सिंह ने मंगलवार को बताया कि कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन में सभी विद्यालय बंद हैं. जबकि शैक्षणिक सत्र 2019-20 में कक्षा 1 से 11 तक (कक्षा 10 को छोड़) के सभी विद्यार्थियों को बगैर वार्षिक परीक्षा, अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया गया है.

नया सत्र हो गया है शुरू

नया सत्र एक अप्रैल से शुरू हो गया है. ऐसे में विद्यार्थियों के भविष्य को देखते हुए सभी कक्षाओं की किताबें वेबसाइट पर उपलब्ध करायी गई हैंं. अब विद्यार्थी और शिक्षक वेबसाइट से किताबें डाउनलोड कर लाभ उठा सकेंगे. देश में बिहार पहला प्रदेश है जिसने सरकारी स्कूलों की किताबों को वेबसाइट पर उपलब्ध करा दिया है. अभी तक किसी अन्य प्रदेश के बोर्ड या निजी शिक्षण संस्थान ने यह पहल नहीं की है.

जल्द लॉन्च किया जाएगा एप

उन्होंने बताया कि निगम के द्वारा जल्द ही एक एप लॉन्च किया जाएगा जिसमें कक्षा 1 से 12 तक की सभी विषयों की पाठ्य-पुस्तकों के अलावा ऑडियो एवं वीडियो के रूप में कंटेंट दिया जाएगा. यहां बता दें कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के साथ विगत 28 अप्रैल को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा के बीच सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों को वेबसाइट पर किताबें उपलब्ध कराने पर सहमति बनी थी.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More