अमेरिका के बाद अब जापान भी Remdesivir के जरिए लड़ेगा कोरोना से जंग

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में एंटी वायरल दवा रेमडेसिवियर (रेमडेसिविर) काफी अहम हो गया है. अमेरिका समेत दुनिया की निगाहें अब इस दवा पर टिकी हैं. दरअसल रेमडेसिवियर के क्लिनिकल ट्रायल के तीसरे फेज में सकारात्मक परिणाम सामने आने के बाद इस दवा पर कई देशों का भरोसा बढ़ा है. अमेरिका ने जहां आपातकालीन स्थिति में रेमडेसिविर दवा का उपयोग करने की स्वीकृति प्रदान की है वहीं जापान ने भी रेमेडिसविर के लिए एक विशेष अनुमोदन प्रक्रिया शुरू कर दी है.

दरअसल, रेमडेसिवियर एक एंटी वायरल दवा है, जिसे इबोला के इलाज के लिए बनाया गया था. इसे अमेरिकी फार्मास्युटिकल गिलियड साइंसेज द्वारा बनाया गया है. इसी साल फरवरी में यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शस डिसीज ने घोषणा की कि वह कोविड-19 के खिलाफ जांच के लिए रिमेडिसवायर का ट्रायल कर रहा है. बता दें कि इसी दवा ने सार्स और मर्स जैसे वायरस के खिलाफ एन‍िमल टेस्ट‍िंग में बेहतर परिणाम दिए थे.

जापान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड -19 के संभावित उपचार के रूप में एंटीवायरल ड्रग रेमेडिसविर के लिए एक विशेष अनुमोदन प्रक्रिया शुरू कर दी है. ब्लूमबर्ग के मुताबिक अनुमोदन प्रक्रिया लगभग एक सप्ताह में पूरी हो सकती है. जापान द्वारा यह कदम अमेरिकी नियामकों द्वारा कोविड -19 रोगियों में आपातकालीन उपयोग के लिए दवा को मंजूरी देने के बाद आया है. यदि इसे उपयोग के लिए मंजूरी दे दी जाती है, तो रेमेडिसवीर जापान में उपलब्ध पहली कोविड -19 उपचार दवा होगी.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More