महाराष्ट्र में 16 दिनों में 10 गुना बढ़कर 3 हजार के पार हुए कोरोना संक्रमित, 70% मरीजों की उम्र 50 साल से कम

मुंबई : देश में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र की स्थिति बिगड़ती जा रही है. राज्य में गुरुवार को कोराना संक्रमण के 165 नए मामले सामने आए. इसे मिलाकर संक्रमितों की संख्या 3,081 पर पहुंच गई है. राज्य के 11 जिलों को हॉटस्पॉट घोषित किए गए हैं. इसमें मुंबई, पुणे, ठाणे, नागपुर, सांगली, अहमदनगर, यवतमाल, औरंगाबाद, बुलढाणा, मुंबई सबअर्बन, नासिक शामिल है. अगर संक्रमितों की बात की जाए तो महाराष्ट्र के बाद दिल्ली है जहां संक्रमण के 1550 से ज्यादा मामले हैं.

महाराष्ट्र में 16 दिन में बढ़े 10 गुना हुए केस

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के केस पिछले 15 दिनों में 10 गुना की वृद्धि हुई है. राज्य में संक्रमण का पहला मामला नौ मार्च को पुणे में सामने आया था. यहां एक परिवार के तीन लोग पॉजिटिव मिले थे. इसके बाद 31 मार्च तक यानी 21 दिनों में संक्रमित केस की कुल संख्या 302 तक पहुंची थी. इन 21 दिनों में एक दिन में अधिकतम 27 पॉजिटिव केस मिले थे. लेकिन, एक अप्रैल से से 16 अप्रैल यानी 16 दिनों में संक्रमितों की संख्या में 10 गुना की वृद्धि के साथ आंकड़ा तीन हजार के पार पहुंच गया। इनमें 14 अप्रैल को सबसे ज्यादा 350 पॉजिटिव केस सामने आए.

70% मरीजों की उम्र 50 साल से कम

महाराष्ट्र में संक्रमण के 2330 मरीजों का विश्लेषण राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने किया है. इससे पता चलता है कि 70 फीसदी यानी 1646 मरीजों की उम्र 21 से 50 साल के बीच है. जबकि 684 की उम्र 50 साल से ज्यादा है. एक बात और इसमें सामने आई है कि 50 से अधिक उम्र वर्ग के लोगों को इस बीमारी से ज्यादा खतरा है. आंकड़े के अनुसार (14 मार्च तक हुई कुल 178 मौतों में से) इस आयु वर्ग के मृतकों की संख्या करीब 77% है। हालांकि, राज्य में गुरुवार तक 188 लोगों की संक्रमण से जान जा चुकी है.

ज्यादा जांच हुई, इसलिए तेजी से मामले सामने आए

महाराष्ट्र में तेजी से संक्रमितों की संख्या सामने आने का एक बड़ा कारण यहां तेजी से जांच होना भी है. राज्य में अब तक 24 हजार से अधिक सैंपल लिए जा चुके हैं. साथ ही, मुंबई के धारावी में मरीज मिलने के बाद करीब साढ़े सात लाख लोगों की स्क्रीनिंग हो रही है. राज्य सरकार अब रैपिड टेस्टिंग की तैयारी कर रही है। उम्मीद है कि जल्द ही राज्य में रैपिड टेस्टिंग शुरू हो जाएगी. इसके लिए राज्य सरकार ने विदेश से किट मंगवाई है. इसके बाद जांच की स्पीड भी बढ़ेगी.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More