दिल्ली हिंसा में अब तक 20 लोगों की मौत, केजरीवाल बोले- हिंसा पर काबू पाने के लिए सेना को बुलाया जाना चाहिए

नागरिकता संशोधन एक्ट के नाम पर दिल्ली की सड़कों पर शुरू हुआ बवाल अभी तक थमा नहीं है. दिल्ली में पिछले तीन दिनों से जारी हिंसा में अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 200 से अधिक घायल बताए जा रहे हैं. इस बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि हालात खतरनाक हैं और चेतावनी देने वाले हैं. पुलिस पूरी कोशिश के बाद भी हालात पर काबू नहीं पा सकी है. ऐसे में हालात पर काबू पाने के लिए सेना को बुलाया जाना चाहिए और प्रभावित इलाकों में कर्फ्यू लगाना चाहिए. उन्होंने कहा कि इस बाबत मैं केंद्रीय गृह मंत्री को पत्र लिखूंगा.

जौहरीपुर इलाके में जवान सुबह से ही कर रहे मार्च

 उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात पर काबू पाने के लिए दिल्ली पुलिस के साथ पैरामिलिट्री के जवानों ने भी मोर्चा संभाल लिया है। इसी के साथ प्रभावित इलाकों में सुरक्षा बलों को मार्च शुरू हो गया है. जौहरीपुर इलाके में जवान सुबह से ही मार्च कर रहे हैं.

हिंसा पर काबू पाने के लिए सेना को बुलाया जाना चाहिए: अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हालात खतरनाक हैं और चेतावनी देने वाले हैं. पुलिस पूरी कोशिश के बाद हालात पर काबू नहीं पा सकी है. ऐसे में हालात पर काबू पाने के लिए सेना को बुलाया जाना चाहिए और प्रभावित इलाकों में कर्फ्यू लगाना चाहिए. उन्होंने कहा कि इस बाबत मैं केंद्रीय गृह मंत्री को पत्र लिखूंगा .

दिल्ली पुलिस को उपद्रवियों पर कार्रवाई के लिए मिली पूरी छूट

केंद्र सरकार के सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि एनएसए ने स्पष्ट कर दिया है कि दिल्ली में अराजकता नहीं होने दी जाएगी और पर्याप्त संख्या में पुलिस बल और अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है. स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए पुलिस को फ्री हैंड दिया गया है. बता दें कि एनएसए अजीत डोभाल को दिल्ली हिंसा को नियंत्रण में लाने का प्रभार दिया गया है. वह स्थिति के बारे में पीएम और मंत्रिमंडल को जानकारी देने जा रहे हैं.

HC ने जारी किया नोटिस, हिंसा को लेकर सुनवाई के दौरान मौजूद रहें दिल्ली पुलिस के सीनियर अफसर

दिल्ली में चल रही हिंसा को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) में बुधवार को सुनवाई होगी. इस बाबत कोर्ट ने नोटिस जारी कर दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को पेश होने के लिए कहा है.

You might also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More